अटल की वो कविता… जिसने पाकिस्तान को हिलाकर रख दिया था

0 commentsViews:

कविताओं को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि ‘मेरी कविता जंग का ऐलान है, पराजय की प्रस्तावना नहीं’. उनकी कविताओं का संकलन ‘मेरी इक्यावन कविताएं’ खूब चर्चित रही. जिसमें..हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा.. खास चर्चा में रही.

वहीं उनकी ऐसी कविता भी है जिसने पूरे पाकिस्तान को हिला कर रख दिया था. पाकिस्तान पर लिखी गई उनकी ये कविता काफी प्रसिद्ध है जिसे खूब सुना जाता है. बता दें, अटल बिहारी वाजपेयी की हालात अब भी नाजुक बनी हुई है. उन्हें फुल लाइफ सपोर्ट पर रखा गया है.  आइए- पढ़ें उनकी पाक के खिलाफ लिखी गई कविता..

”शीश नहीं झुकेगा”

एक नहीं, दो नहीं, करो बीसों समझौते

पर स्वतंत्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा

अगणित बलिदानों से अर्जित यह स्वतंत्रता

त्याग, तेज, तप, बल से ‍रक्षित यह स्वतंत्रता

प्राणों से भी प्रियतर यह स्वतंत्रता..

इसे मिटाने की ‍साजिश करने वालों से

कह दो चिनगारी का खेल बुरा होता है

औरों के घर आग लगाने का जो सपना

वह अपने ही घर में सदा खरा होता है.

अपने ही हाथों तुम अपनी कब्र न खोदो

अपने पैरों आप कुल्हाड़ी नहीं चलाओ

ओ नादान पड़ोसी अपनी आंखें खोलो

आजादी अनमोल न इसका मोल लगाओ.

पर तुम क्या जानो आजादी क्या होती है

तुम्हें मुफ्‍त में मिली न कीमत गई चुकाई

अंग्रेजों के बल पर दो टुकड़े पाए हैं

मां को खंडित करते तुमको लाज न आई.

अमेरिकी शस्त्रों से अपनी आजादी को

दुनिया में कायम रख लोगे, यह मत समझो

दस-बीस अरब डॉलर लेकर आने वाली

बरबादी से तुम बच लोगे, यह मत समझो.

धमकी, जेहाद के नारों से, हथियारों से

कश्मीर कभी हथिया लोगे, यह मत समझो

हमलों से, अत्याचारों से, संहारों से

भारत का शीश झुका लोगे, यह मत समझो.

जब तक गंगा की धार, सिंधु में ज्वार

अग्नि में जलन, सूर्य में तपन शेष

स्वातंत्र्य समर की वेदी पर अर्पित होंगे

अगणित जीवन, यौवन अशेष.

अमेरिका क्या संसार भले ही हो विरुद्ध

काश्मीर पर भारत का ध्वज नहीं झुकेगा,

एक नहीं, दो नहीं, करो बीसों समझौते

पर स्वतंत्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा.


Facebook Comments