आसाराम के वकील का दावा- जज ने दबाव में सुनाया है ऐसा फैसला

आसाराम पक्ष के एक अन्य वकील आर.के. नायक ने जोधपुर कोर्ट के न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा पर दबाव में फैसला करने का आरोप लगाया है. उन्होंने आरोप लगाया कि इस मुकदमे का ट्रायल मीडिया ने किया है. जज जबरदस्त दबाव में थे इसलिए उन्होंने इस मामले के तथ्यों को नहीं देखा और दबाव में फैसला सुना दिया.

आसाराम का पक्ष लेते हुए आर.के. नायक ने कहा कि आसाराम निर्दोष है. वे आसाराम को रेपिस्ट नहीं मानते. इस फैसले के खिलाफ अगर हाईकोर्ट में बात नहीं बनी तो वे उच्चतम न्यायालय तक जाएंगे.

उन्होंने कहा कि सड़क पर चलने वाला कोई भी व्यक्ति बलात्कार का आरोप लगाता है, ऐसे में उसे प्रभावी सबूत देने की जरूरत होती है, जो इस मामले में नहीं हुआ था. सवाल है कि इस केस में क्या सबूत दिए गए.

वकील ने कहा कि लड़की ने खुद नहीं माना कि उसके साथ बलात्कार हुआ. उस पर दबाव बनाया गया. उसके घरवालों की वजह से जज ने हमारी दलील सुनी ही नहीं. और उन्होंने अपना फैसला सुना दिया.