एमएस धोनी के इस छक्के से भारत ने मनाई थी दीवाली, पूरा किया था सचिन तेंदुलकर का सपना

0 commentsViews:

नई दिल्ली: आज से ठीक 7 साल पहले 2 अप्रैल 2011 को टीम इंडिया ने दूसरी बार वर्ल्ड कप जीता था. उस मैच को भारत शायद ही कभी भूल पाए. खासकर वो छक्का जो धोनी ने आखिरी बॉल में मारा था. नुवान कुलसेकरा की गेंद पर धोनी ने अपने बल्ले को ऐसा घुमाया कि 28 साल बाद वर्ल्ड कप भारत में झोली में आ गया. इससे पहले भारत ने 25 जून 1983 को पहली बार वर्ल्ड कप जीता था.

धोनी ने जिस तरह छक्का जड़ा वो वाकई काबिले तारीफ था. धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया इससे पहले टी-20 वर्ल्ड कप जीता फिर 2011 वर्ल्ड कप भी जिता दिया. धोनी ने बता दिया कि वो किसी भी परिस्थिती में टीम इंडिया को जिता सकते हैं. आइए देखते हैं धोनी का वो यादगार छक्का…

सहवाग और सचिन के रूप में दो विकेट लिए जा चुके थे. लेकिन गौतम गंभीर ने 97 रन की पारी खेली. जिसके बाद आखिर में जिताने का काम किया धोनी ने उन्होंने शानदार 91 रन की पारी खेली. 10 बॉल रहते ही टीम इंडिया को चैम्पियन बना दिया और साथ ही उन्होंने सचिन के सपने को (टीम इंडिया को फिर चैम्पियन) भी पूरा कर दिया. जीत के बाद इंडियन फैन्स ने खूब जश्न मनाया था. ऐसा लग रहा था जैसे दीवाली हो.

धोनी ने बनाया था ये खास रिकॉर्ड
एमएस धोनी ने जो छक्का जड़ा उसी के साथ उन्होंने एक अनोखा रिकॉर्ड भी बनाया था. ऐसा कभी नहीं हुआ था कि किसी ने आखिरी बॉल पर छक्का जड़कर वर्ल्ड कप फाइनल जिताया हो. ऐसा करके धोनी एकमात्र ऐसे खिलाड़ी बन गए. अब तक उनका रिकॉर्ड कोई नहीं तोड़ पाया है.


Facebook Comments