क्या खत्म होंगे आर्मी के सभी कैंट? रक्षा मंत्रालय के पास आया प्रस्ताव

सेना अपने सभी 62 कैंट इलाकों को खत्म करने पर विचार कर रही है. इससे करीब दो लाख एकड़ जमीन मुक्त हो सकता है और हर साल सैकड़ों करोड़ रुपये मेंटेंनेंस पर बचत हो सकती है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के अनुसार, सेना ने रक्षा मंत्रालय को यह प्रस्ताव दिया है कि कैंट इलाके के भीतर के सैन्य इलाकों को ‘विशेष सैन्य केंद्र’ में बदला जा सकता है, जिन पर सेना का पूरा नियंत्रण हो, जबकि नागरिक इलाकों को रखरखाव और अन्य उद्देश्यों के लिए स्थानीय नगर निकायों को सौंपा जा सकता है.

सेना के उच्चाधिकारियों को लगता है कि इससे कैंट इलाकों के रखरखाव के लिए खर्च होने वाला पैसा बचेगा और इस तरह डिफेंस बजट का बड़ा बोझ कम होगा. इस साल कैंट इलाकों के रखरखाव के लिए बजट में 476 करोड़ रुपये निर्धारित किए गए हैं.

गौरतलब है कि देश में आर्मी का पहला कैंट इलाका 250 साल पहले ब्रिटिश शासकों ने बैरकपुर में स्थापित किया था. कैंट ऐसे इलाके होते हैं जिन पर सेना का नियंत्रण होता है.