क्रिएटिव नहीं भारतीय! आनंद महिंद्रा ने दिया ऐपल को-फाउंडर को जवाब

ऐपल के को फाउंडर स्टीव वॉजनिएक ने ET को दिए एक इंटरव्यू में कहा था की भारतीय क्रिएटिव नहीं हो सकते हैं. उन्होंने यह भी कहा था कि उन्हें कोई उम्मीद नहीं है कि भारत से कभी भी गूगल और ऐपल जैसी कंपनियां आ सकती हैं. उनके मुताबकि भारतीय लोगों के लिए पढ़ाई, जॉब करना और मर्सिडीज खरीद लेना ही सफलता है.

स्टीव वॉजनिएक के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आई हैं. ट्विटर और फेसबुक पर ज्यादातर कॉमेंट्स में लोगों ने स्टीव वॉजनिएक की राय से सहमती जताई है. कई लोगों ने उनकी आलोचना करते हुए कहा है कि दुनिया की टॉप कंपनियों के हेड भारतीय ही हैं.

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन और सीईओ ने वॉजनिएक के इस बयान के बाद लिखा है, ‘इस तरह की बात सुनना काफी मजेदार है. इस तरह की रूढ़ीवादी सोच को खत्म करके अपने को जाहिर करने में मजा आता है. शुक्रिया स्टीव वॉजनिएक, जल्द वापस आइए. हम आपसे एक अलग धुन बजवाएंगे’

गौरतलब है कि स्टीव वॉजनिएक दशकों पहले ऐपल कंपनी छोड़ चुके हैं . हाल ही में वो भारत में थे और उन्होंने भारतीय शिक्षा व्यव्स्था से लेकर यहां की कंपनियों पर अपनी राय रखी थी. उन्होंने कहा है कि यहां बड़ी टेक कंपनी के नाम पर एक इनफोसिस ही है जहां इनोवेशन की कमी है और फिलहाल वो इनफोसिस को गूगल और ऐपल जैसी बड़ी कंपनियों की रेस में नहीं देखते हैं.

एक इंटरव्यू में वॉजनिएक ने कहा है, ‘आप कितने टैलेंटेड हैं? अगर आप इंजीनियर हैं या एमबीए हैं तो आप अपनी डिग्री पर इठलाइए, लेकिन खुद से पूछिए कि आप मैं कितने क्रिएटिव हैं.