खेल से समाज में कायम होती है समरस्ता

0 commentsViews:

DNP01

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

चन्दौली ब्यूरो। खेल जीवन का महत्वपूर्ण अंग है। खेल से शरीर व मस्तिष्क का विकास होता है जबकि खेल भावना से समाज में अमन व शान्ति पैदा होती है। ग्रामीण समाज में खेलकूद प्रतियोगिताओं के आयोजन से ग्रामीण परिवेश में छिपी प्रतिभा उभर कर सामने आती है।
उक्त बातें प्रीतेश जायसवाल ने धानापुर स्थित अमर वीर इण्टर कालेज के क्रीडा मैदान पर आजाद मुस्लिम रोज स्पोर्टिंग क्लब द्वारा आयोजित 37वें अन्र्तप्रांतीय फुटबाल प्रतियोगिता के उद्घाटन समारोह में व्यक्त किया। उन्होने कहा कि इस तरह के प्रतियोगिताओं का आयोजन जरूरी है क्योंकि इससे ग्रामीण युवाओं को अपने हुनर को प्रदर्षित करने का मौका मिलता है। बस जरूरत है ऐसे प्रतिभाओं को प्रोत्साहन, संरक्षण व संसाधन मुहैया कराने का ताकि ये प्रदेष व देष स्तर पर क्षेत्र का गौरव बढ़ा सकें। क्रिकेट के बढते दायरे ने फुटबाल को काफी पीछे धकेल दिया है, इस तरह के आयोजन से ही फुटबाल को जिन्दा रखा जा सकता है।
विषिष्ट अतिथि इर्शाद खां ने कहा कि खेल को खेल की भावना से खेला जाना चाहिए क्योंकि खेल समाज में सौहार्द व समरस्ता कायम करती है। खेल से युवाओं में शारीरिक, मानसिक व चारित्रीक विकास होता है। उद्घाटन मैच में आजाद स्पोर्टिंग क्लब, ताजपुर ने जमुरना फुटबाल क्लब, गाजीपुर को टाईब्रेकर में 4-1 से हराया।
इस दौरान शाहनवाज खां, मासूम खां, इमरान खां, राजन खां, उदय प्रताप सिंह, शमीम खां, शाह आलम खां, रूस्मत खां, हीरो, नौशाद खां पप्पू, दिलशाद खां, प्रिंस कलाम खां, राशिद खां, वीरेन्द्र यादव, आरिफ खां, आतिफ खां, जावेद, हाजी मोहन भाई, जीशान खां, कलाम खां सहित सैकडों लोग मौजूद रहे।

एम. अफसर खां सागर

 


Facebook Comments