छत्तीसगढ़ चुनाव: कसडोल में कांग्रेस-BSP का साथ बिगाड़ेगा BJP का खेल!

छत्तीसगढ़ राज्य में कई ऐसी सीटें हैं जो एक तरह से वीआईपी मानी जाती हैं. इन्हीं में से एक है बलोदा बाज़ार जिले की कसडोल विधानसभा सीट. छत्तीसगढ़ विधानसभा के स्पीकर गौरीशंकर अग्रवाल यहां से ही विधायक हैं.

ये सीट दोनों पार्टियों के खाते में जाती रही है. 2013 में भले ही भारतीय जनता पार्टी के गौरीशंकर अग्रवाल यहां से जीत दर्ज करने में कामयाब रहे हों, लेकिन उससे पहले लगातार दो बार ये सीट कांग्रेस ने अपने नाम की थी.

2013, कसडोल विधानसभा सीट (सामान्य)

गौरीशंकर अग्रवाल, बीजेपी, कुल वोट मिले 96629

राजकमल सिंघानिया, कांग्रेस, कुल वोट मिले 70701

2008, कसडोल विधानसभा सीट (सामान्य)

राजकमल सिंघानिया, कांग्रेस, कुल वोट मिले 77661

योगेश चंद्रकर, बीजेपी, 50455

2003, कसडोल विधानसभा सीट, (सामान्य)

राजकमल सिंघानिया, कांग्रेस, कुल वोट मिले 48024

गौरीशंकर अग्रवाल, बीजेपी, कुल वोट मिले 43002

आपको बता दें कि इस सीट पर मायावती की बहुजन समाज पार्टी (BSP) का काफी अहम प्रभाव है. पिछले कुछ चुनाव में बसपा लगातार तीसरे नंबर पर रहती आई है. जिस तरह से हाल ही में कांग्रेस और बसपा के गठबंधन की अटकलें लगाई जा रही हैं, अगर ऐसा होता है तो ये बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा सकता है.

छत्तीसगढ़ के बारे में…

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में कुल 90 विधानसभा सीटें हैं. राज्य में अभी कुल 11 लोकसभा और 5 राज्यसभा की सीटें हैं. छत्तीसगढ़ में कुल 27 जिले हैं. राज्य में कुल 51 सीटें सामान्य, 10 सीटें एससी और 29 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं.

2013 चुनाव में क्या थे नतीजे…

2013 में विधानसभा चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को घोषित किए गए थे. इनमें भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में लगातार तीसरी बार कांग्रेस को मात देकर सरकार बनाई थी. रमन सिंह की अगुवाई में बीजेपी को 2013 में कुल 49 विधानसभा सीटों पर जीत मिली थी. जबकि कांग्रेस सिर्फ 39 सीटें ही जीत पाई थी. जबकि 2 सीटें अन्य के नाम गई थीं. 2008 के मुकाबले बीजेपी को तीन सीटें कम मिली थीं, इसके बावजूद उन्होंने पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बनाई. रमन सिंह 2003 से राज्य के मुख्यमंत्री हैं.