जीत के बाद रामविलास और उपेंद्र कुशवाहा पर तेजस्वी ने डाले डोरे, बोले- साथ आएं तो स्वागत है

नई दिल्ली: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के बेटे एनडीटीवी के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि अररिया में राजदी की जीत के बाद देश विरोधी नारे लगाए जाने के मामले पर कहा कि अभी यह जांच का विषय है, इसलिए इस पर टिका-टिप्पणी करने से बचने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि जांच होने दीजिए. जो दोषी होंगे, सरकार उस पर खुद सख्त कार्रवाई करेगी. साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी इस मुद्दे को बढ़ा रही है. इसे प्रोपगेंडा की तरह बना रही है.

टीडीपी द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की बात तजस्वी यादव ने कहा कि वह टीडीपी के अविश्वास प्रस्ताव के साथ हैं. उन्होंने कहा कि यह प्रस्ताव एकदम जायज है, क्योंकि हम भी बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा मांग रहे हैं. नीतीश कुमार ने अपना वादा नहीं निभााया. उन्होंने कहा कि बिहार को अभी तक कोई पैकेज नहीं मिला.

उन्होंने रेलवे घोटाला को पोलिटिकल वेंडेटा करार दिया. उन्होंने कहा कि रेलवे घोटाला कोई घोटाला ही नहीं है. नीतीश जी को तो अलग होने का एक बहाना चाहते थे. उन्होंने कहा कि लालू जी बीजेपी के हिटलिस्ट में थे. लालू जी कभी मोदी सरकार से दबे नहीं. उन्होंने कहा कि मेरे ऊपर, भाई, बहन, मां और संबंधियों पर भी कई सारे झूठे मामले दर्ज करवाए गये. हम सभी के ऊपर दबाव डालने के लिए की कोशिश हो रही है. हमे बिहार में बदनाम करने का प्रोपेगेंडा रचा जा रहा है.

अररिया में देश विरोधी नारे लगाए जाने के मामले पर तेजस्वी ने कहा कि हमारे सामने ये नारे नहीं लगे. सोशल मीडिया पर कई सारे वीडियो वायरल होते रहते हैं. जब तक इसकी सच्चाई सामने नहीं आती, तब तक हम क्या कर सकते थे. हमने सरफराज जी से संपर्क किया है, उन्होंने कहा कि ये आरोपी उनके आदमी नहीं हैं और न ही वह उन्हें जानते हैं. उन्होंने इस नारेबाजी को बीजेपी की साजिश करार दिया.

बिहार में राजद की जब सवाल पूछा गया कि क्या लालू जी जेल में थे, इस वजह से उनकी जीत हुई? इस पर तेजस्वी ने कहा कि 2015 में लालू जी बाहर थे, तब भी हम जीते थे. ये जीत लालूवाद की जीत है. यह बिहार की जनता की जीत है. जनता सब जानती है कि हम गलत नहीं हैं. तेजस्वी ने बिहार में जीत का श्रेय लालू यादव को दिया.

तेजस्वी ने कहा कि पार्टी ने जो जिम्मेवादारी दी गई, उसे हमने निभाने का काम किया. हम आगे भी ऐसा करते रहेंगे. मुझे उम्मीद है कि नेशनल स्तर पर महागठबंधन बनाने का सपना रखने वाले लालू जी के सपने को हम जरूर पूरा करेंगे.

कांग्रेस एक बड़ी पार्टी है और उसका अध्यक्ष होने के नाते राहुल जी की जिम्मेवारी है सबको एक जुट करना. बिहार में महागठबंधन के सवाल पर तेजस्वी ने कहा कि हम राष्ट्रीय स्तर पर चाहते हैं कि बीजेपी के खिलाफ थर्ड फ्रंट तैयार हो. उन्होंने इस दौरान शिवसेना का भी जिक्र किया.

तेजस्वी ने कहा कि रामविलास पासवान की पार्टी के कई लोग हैं, जो हमारे संपर्क में हैं. वे सभी हमारे साथ गठबंधन में आना चाहते हैं. इस बात को रामविलास को समझना होगा. उपेंद्र कुशवाहा भी बीजेपी से नाराज चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि पहले जीतन राम मांझी भी नहीं आना चाहते थे, मगर वो भी आ ही गये. उन्होंने कहा कि नीतीश चाचा को छोड़कर जो भी उनके साथ आना चाहें, उनके लिए दरवाजे खुले हैं.