जीत पर इतराने वाले इमरान खान अभी भी नहीं बना सकते पाक में सरकार, ये है बड़ी बाधा

पाकिस्तान में नए प्रधानमंत्री के लिए इमरान खान की ताजपोशी लगभग तय हो गई है. पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने मतदान के तीसरे दिन अंतिम रिजल्ट जारी कर दिया है. इमरान खान की पार्टी पीटीआई ने 119 सीटों पर जीत दर्ज की है. दूसरे नंबर पर नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन 63 सीटों के साथ काबिज हुई है. पीपीपी 43 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर है.

इस बार कुल 14 निर्दलीय उम्मीदवारों ने बाजी मारी है. वहीं एमएमए के 13 उम्मीदवारों ने चुनाव में फतह की है. 119 सीटें जीतने के बाद भी इमरान फिलहाल बहुमत से दूर हैं. उन्हें अपने दम पर सरकार बनाने के लिए कम से कम 137 सीटों की दरकार थी. माना जा रहा कि सरकार बनाने के लिए 18 सीटों का ‘जुगाड़’ निर्दलीय विधायकों से हो जाएगा.

चुनाव में शिकस्त के बाद पीएमएल-एन ने रिजल्ट पर सवाल उठाते हुए धांधली का आरोप लगाया है. पीएमएल-एन के कार्यकर्ताओं ने सरगोधा शहर में पाकिस्तानी फौज के विरोध में नारे लगाए. इधर पीएमएल-एन के नेता ख्वाजा साद रफीक ने रिजल्ट पर सवाल उठाते हुए चुनाव आयोग को एक चिट्ठी लिखी है.  ख्वाजा चुनाव में इमरान खान के खिलाफ ही खड़े हुए थे.

इस बार आम चुनावों में शुरुआती चरण में ही क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की लहर में कई दिग्गज धाराशायी हो गए. पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) की ओर से प्रधानमंत्री पद का ख्वाब देखने वाले शहबाज शरीफ तक चुनाव हार गए. इस चुनाव में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरे पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के सह-अध्यक्ष बिलावल भुट्टो भी चुनाव हार गए हैं.