ज्वेलर ने DRI ऑफिस की इमारत से कूदकर की आत्महत्या

0 commentsViews:

दिल्ली में एक ज्वेलर ने जांच एजेंसी डीआरआई के ऑफिस की छठी मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली. डीआरआई ज्वेलर से उस सोने और चांदी की बरामदगी के संबंध में पूछताछ कर रही थी, जो उसके ठिकानों से बरामद हुआ था. उधर, मृतक की पत्नी का आरोप है कि उसके पति को डीआरआई की टीम ने बहुत प्रताड़ित किया था.

दरअसल, 36 वर्षीय ज्वेलर गौरव गुप्ता ने जांच एजेंसी डीआरआई की इमारत में छठी मंजिल से छलांग लगाकर जान दे दी. डीआरआई के मुताबिक, 24 अप्रैल को उनकी टीम ने शालीमार बाग इलाके में रहने वाले ज्वेलर गौरव गुप्ता के घर पर रेड की थी. वहां से डीआरआई की टीम ने विदेशी मार्का लगा 6 किलो सोना और चांदी बरामद की थी.

इसके अगले दिन यानी 25 अप्रैल को डीआरआई की टीम ने दोबारा गौरव गुप्ता के घर के नजदीक स्थित उसके ज्वेलरी शोरूम पर भी छापा मारा था. वहां से डीआरआई की टीम ने विदेशी मार्का वाले 35 किलो सोने के बिस्किट और करीब 213 किलो चांदी बरामद की थी. ये सारी बरामदगी शोरूम की दिवार में बनी एक खुफिया तिजोरी से की गई थी.

साथ ही वहां से 48 लाख रुपये कैश भी जब्त किया गया था. बरामद सोने चांदी की कुल कीमत 13 करोड़ बताई जा रही है. इसके बाद डीआरआई की टीम ने ज्वेलरी शोरूम को सील कर दिया था. अब डीआरआई का कहना है कि गौरव गुप्ता को इतनी बरामदगी होने के बावजूद खुदकुशी से पहले तक न तो गिरफ्तार किया गया और न ही उन्हें हिरासत में लिया गया था.

लेकिन, छापेमारी के दौरान शोरूम पर मौजूद गार्ड राम प्रसाद ने बताया कि डीआरआई की टीम गौरव और उनके पिता अशोक गुप्ता को अपने साथ ले गई थी. उधर, मृतक के परिवार का आरोप है कि डीआरआई की टीम ने पूछताछ के दौरान गौरव को थर्ड डिग्री देकर टॉर्चर किया था.

गौरव के पिता अशोक गुप्ता की मानें तो डीआरआई की टीम उन्हें हिरासत में लेकर सीजीओ काम्प्लेक्स लेकर गई थी, जहां गौरव से पूछताछ की गई. गौरव की पत्नी का आरोप है कि उनके पति ने खुदकुशी नहीं की है, बल्कि उनके पति को पुछताछ के दौरान टार्चर किया गया.

परिवार के मुताबिक, उन्होंने डीआरआई की टीम को जांच में पूरा सहयोग किया था. लिहाजा, मृतक गौरव की पत्नी ने अब डीआरआई के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत दी है. उन्होंने अपने पति की हत्या का शक जाहिर किया है. साथ ही परिजन गौरव के शव का पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल कराए जाने की मांग कर रहे हैं.

उधर, दिल्ली पुलिस ने भी लोधी रोड थाने में खुदकुशी का मामला दर्ज कर लिया है. अब केस की जांच की जा रही है. शुरुआती तफ़्तीश में डीआरआई सवालों के घेरे में है और परिवार अपने बेटे की मौत की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहा है, ताकि उन्हें न्याय मिल सके.


Facebook Comments