डॉ बी .निर्मला – जवान/फौजी/सैनिक – साप्ताहिक प्रतियोगिता

भारत में बड़े सम्मान से मनाए जाते कई विशेष दिवस,
राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते,
हम गणतंत्र दिवस।

स्कूलों,कॉलेजों में बड़े उत्साह, जोश से मनाया जाता यह पर्व,
रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेते बच्चे और युवा वर्ग।

स्कूल,कॉलेजों,सरकारी दफ्तरों, पर तिरंगा झंडा फहराया जाता,
बड़े जोश से,एक स्वर में,
राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान गाया जाता।

हमारे संविधान को लागू किया गया इस दिन,
यादकर हम अर्पित करते वीरों, महापुरुषों को श्रद्धा सुमन।

विशाल,गहन,अद्वितीय,है
विश्व में संविधान हमारा,
अथक परिश्रम इसके पीछे,
सब कुछ है इसमें समाया।

आसान नहीं था,देश को अंग्रेजों से आजादी दिलवाना,
उतना ही मुश्किल था आजादी के बाद देश को जोड़ना।

सभी समस्याओं का ध्यान और समाधान हेतु,किया बृहत संविधान का निर्माण,
‘सोने की चिड़िया’ वाला भारत फिर उठ खड़ा हो,दिखाए विश्व को अपनी शान।

आओ,चलो करें तैयारी,अपने देश के राष्ट्रीय पर्व,गणतंत्र दिवस की,
इस दिन देश की तीनों सेना अपने विशेष करतब दिखाती।

देश विदेश से आते लोग,
देखने हमारे गणतंत्र दिवस को, और देखकर आनंद उठाते,
विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों को।

आओ हम सब मिलकर लें प्रण, ना हो कभी हमारा देश परतंत्र,
विश्व में रहे सदा हमारा भारत,
स्वतंत्र और गणतंत्र।