धोनी को किस बात पर आता है गुस्सा? रैना ने खोला राज

क्रिकेट की दुनिया में कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी को शायद ही कभी गुस्सा आता हो. मैदान पर कितनी ही मुश्किल घड़ी क्यों ना हो, वह अपना आपा नहीं खोते. चाहे भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी का समय रहा हो या फिर आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी का, कोई नहीं बता सकता कि माही के दिमाग में क्या चल रहा है?

कभी-कभी मैदान पर सुस्त रहने वाले खिलाड़ियों पर भले ही माही के वन लाइनर्स सुनने को मिल जाते हैं. तमाम दबाव की परिस्थितियों में भी अपना धैर्य बनाए रखने वाले धोनी को पिछले कुछ समय से अपना टेंपर खोते देखा गया है. दक्षिण अफ्रीका के दौरे में जब धोनी को मनीष पांडे को डांटते हुए देखा गया तो हर किसी को हैरानी हुई. लगातार तीसरी बार आईपीएल जीतने का सपना देख रही चेन्नई सुपर किंग्स टीम के कैप्टन धोनी मैदान पर सुस्त रहने वाले बॉलर्स और फील्डर्स पर भी नाराज होते दिखे.

आईपीएल 2018 के दौरान, धोनी ने यह बात स्वीकार भी की कि उतनी टीम की फील्डिंग मजबूत नहीं है. टीम के बल्लेबाजों अंबति रायडू, शेन वॉटसन और खुद धोनी ने अच्छा परफॉर्म किया है. इस सीजन में टीम की कुछ हारों के लिए खराब बॉलिंग और फील्डिंग को जिम्मेदार माना जा सकता है. यहां तक कि कई बार मैच जीतने के बावजूद भी धोनी अपने बॉलर्स और फील्डर्स के प्रदर्शन से नाखुश थे.

राजस्थान रॉयल्स से हार के बाद धोनी साफ तौर पर गुस्से में थे. गलत लेंथ से बॉलिंग करने पर धोनी इतने ज्यादा आगबबूला हो गए कि विकेट के पीछे कैच लेने के बाद गुस्से से बॉल फेंक दी.

रैना ने इंडिया टुडे से बातचीत में बताया कि धोनी को सबसे ज्यादा गुस्सा किस बात पर आता है.  फील्ड पर अक्सर कूल रहने वाले धोनी के चेहरे पर अधिकतर मुस्कुराहट होती है लेकिन बॉलर्स के बार-बार गलतियां दोहराने पर माही को गुस्सा आ जाता है.

धोनी को करीब से जानने वाले रैना ने कहा, कप्तान प्ले ऑफ से पहले इस तरह की गलतियों को कम करना चाहते हैं. आईपीएल से दो सीजन दूर रहने के बाद CSK इस बार आईपीएल जीते, माही का यही लक्ष्य है.

रैना ने कहा, “बॉलर्स को हमेशा बताया जाता है कि उन्हें किस प्लान पर काम करना है. एक प्रोफेशनल क्रिकेटर के तौर पर आपको यह आना चाहिए. मुझे पता होता है कि फील्ड पर मुझे क्या करना है लेकिन कैप्टन से सलाह लेना खासकर बॉलर्स… जब वे सही दूरी से बॉल ना फेंक पा रहे हो और लगातार एक्स्ट्रा रन दे रहे हो. ये चीजें आपको ज्यादा परेशान कर देती हैं.”

रैना ने आगे कहा, यही वजह है कि वह हमेशा बताते रहते हैं कि अपना गेम सुधारो. माही ने यही बात लगातार प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी दोहराई है. वह अपने बॉलर्स से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे हैं. अगला पड़ाव प्ले ऑफ का है और आप वहां पर गलती नहीं कर सकते हैं. जिस पल आप प्ले-ऑफ्स में गलती कर बैठते हैं, आप टूर्नामेंन्ट से बाहर हो जाते हैं. इसीलिए वह सभी गलतियों को सुधार लेना चाहते हैं ताकि जब मुकाबले की घड़ी आए तो वहां गलतियां ना हों.

अब तक, चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद दो टीमें हैं जिन्होंने प्ले-ऑफ में जगह बनाई है. धोनी ने कहा था कि वह केवल टॉप 4 में जगह बनाकर संतुष्ट नहीं होने वाले हैं, वह आईपीएल जीतना चाहते हैं. टीम के सदस्यों की गलतियों के लिए कोई जगह नहीं होगी. इस आईपीएल के सीजन को माही की इमोशनल वापसी कहा जा रहा है.

इस साल धोनी यह साबित करने को बेताब है कि आईपीएल के असली बॉस वही हैं. माही सुपर किंग्स को आईपीएल का खिताब जिताने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञ हैं और वह इसके लिए किसी भी तरह की गलती को बर्दाश्त करने के मूड में बिल्कुल नहीं हैं.