प्यार दिवस है /वेलेन्टाइन डे – अनन्तराम चौबे अनन्त

प्यार दिवस है पर्याय करो
प्यार का बस इजहार करो ।
प्यार तो बस प्यार ही है
आँख लड़ी बस हो जाता है ।
आँखो ही आँखो के इशारे
दिल में भी उतर जाते है ।
कैसा है ये प्यार का रिश्ता
दिल से दिल जुड़ जाता है । 
दिल लग जाये जब किसी 
से हाल बुरा हो जाता है ।
अचानक जब कोई ऐसा
दिल वाला मिल जाता है ।
बस प्यार दिवस होता है
दोनो के जब दिल मिलते है 
दिल से दिल करीब होते है
आपस में दिल मिल जाते है ।
दिल के रिश्ते जुड़ जाते है ।
बड़ा अजीब है ये रिश्ता जब
प्यार किसी से हो जाता है ।
दो दिल जब मिलते है
जीना मुश्किल हो जाता है ।
सूरत दिल में बस जाती है
हालत मुश्किल हो जाती है  ।
प्यार का रिश्ता बड़ा अजीब है
अंजाने ही दो, दिल मिलते है ।
हमसफर प्यार के बनते है ।
सफर में कोई मिले हमसफर
आसान राहे हो जाती है ।
प्यार के राही जब मिलते है
प्यार भी आपस में होता है 
प्यार तो बस प्यार होता है
प्यार का रिश्ता जुड़ जाता है ।
प्यार दिवस है प्यार करो
आपस में इजहार करो ।