राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों का बयान- फ्रांस के लिए भारत इस इलाके में सबसे पहले, 5 खास बातें

नई दिल्ली: फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों की चार दिन की भारत यात्रा शुरू हो गई है. गॉर्ड ऑफ ऑनर के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि फ्रांस भारत का सबसे बेहतरीन साझीदार होना चाहिए. उन्होंने कहा, मैं मानता हूं कि हमारे (भारत-फ्रांस) बीच अच्छी केमेस्ट्री है. हमारे दो महान लोकतंत्रों के बीच ऐतिहासिक संबंध रहे हैं. आपको बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति शुक्रवार की रात दिल्ली पहुंचे हैं. उनके साथ उनकी पत्नी, उद्योगपति और उच्चाधिकारी भी आए हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति के दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच आर्थिक, राजनीतक और रणनीतिक मुद्दों पर बातचीत होगी.
                                                                                             5 खास बातें
  1. फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि उनका उद्देश्य है कि दोनों देशों के बीच संबंधों के एक नये युग की शुरुआत हो. फ्रांस के लिए भारत इस इलाके में पहली प्राथमिकता है. यह फ्रांस के लिए इस इलाके में प्रवेश द्वार है तो फ्रांस यूरोप में भारत के लिए प्रवेश द्वार है.  फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच निवेश, रक्षा और सुरक्षा, शिक्षा जैसे मुद्दों पर बात की.
  2. फ्रांस के राष्ट्रपति और पीएम मोदी के बीच भी द्विपक्षीय मुद्दों पर बात हुई फिर उन्होंने प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीच में हिस्सा लिया.
  3. मैक्रों की यात्रा के दौरान परमाणु करार, सोलर एनर्जी, रेलवे, मेट्रो और स्मार्ट सिटी जैसे मुद्दों पर सहमति बनने के उम्मीद है. वहीं अंतरिक्ष के क्षेत्र में भी कई समझौते हो सकते हैं.
  4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 मार्च को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी आ रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी के साथ उनके फ्रांसीसी दोस्त का वाराणसी दौरा कई मायनो में खास रहेगा. पहले बनारस से प्रधानमंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति मिर्ज़ापुर के दादरा कला पहुंचेंगे.
  5. प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति अस्सी घाट आएंगे. जहां पीएम मोदी फ्रांस के राष्ट्रपति को एक विशेष क्रूज़ पर सवार होकर बनारस के घाटों की विविधिता और उसकी जीवंतता से परिचय कराएंगे. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों स्पेशल बोट पर सवार अस्सी घाट से और राजघाट के पास खिड़कियां घाट तक जाएंगे