येदियुरप्पा की ताजपोशी के खिलाफ विधानसभा के सामने धरने पर बैठे सभी कांग्रेसी विधायक

बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है. वहीं सुप्रीम कोर्ट के बाद कांग्रेस ने सड़क पर उतरकर बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा के सीएम बनने का विरोध करने का फैसला लिया है.

कांग्रेस ने अपने ज्‍यादातर विधायकों को बीजेपी की पकड़ से बाहर रखने के लिए बेंगलुरु के ईगलटन रिजॉर्ट में ठहराया हुआ है. शपथग्रहण समारोह के बाद कांग्रेस के विधायक रिजॉर्ट से निकलकर बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में विरोध करने के लिए निकल गए. येदियुरप्‍पा की ताजपोशी के ख‍िलाफ कांग्रेस के विधायक विधानसभा के सामने भी धरना देंगे.

आपको बता दें कि गुरुवार को सुबह 9 बजे राज्यपाल वजूभाई वाला ने बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. येदियुरप्पा ने तीसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री का पद संभाला है.

बता दें कि कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने बुधवार की शाम बी. एस. येदियुरप्पा को नई सरकार गठित करने और गुरुवार को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने के लिए आमंत्रित किया था. येदियुरप्‍पा को 15 दिन में बहुमत साबित करना होगा. कांग्रेस येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण के खिलाफ बुधवार देर रात सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. सुप्रीम कोर्ट कर्नाटक में सरकार बनाने के लिये बीजेपी को आमंत्रित करने के राज्यपाल वजुभाई वाला के फैसले को चुनौती देने वाली कांग्रेस की याचिका पर रात में सुनवाई करने के लिये सहमत हो गया. इसके बाद रात 2 बजे से लेकर सुबह 5:30 बजे तक सुनवाई चली. याचिका में बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाए जाने पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

वहीं इससे पहले गुरुवार को तड़के सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक बीजेपी को बड़ी राहत दी और येदियुरप्पा की शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय जनता पार्टी से समर्थक विधायकों की लिस्ट भी मांगी है. साथ ही राज्यपाल को दिए गए समर्थन पत्र की भी मांग की है. मामले में अब कोर्ट शुक्रवार की सुबह 10.30 बजे दोबारा सुनवाई करेगी.

बीजेपी राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में 104 सीटें हासिल करके सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. वहीं चुनाव के बाद बने कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 116 विधायक हैं. इस गठबंधन ने भी राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश किया था.