रेहड़ी पटरी वालों की सुरक्षा के लिए जुटे कांग्रेसी

0 commentsViews:

ajay-maken

नई दिल्ली । केजरीवाल सरकार
द्वारा रेहड़ी पटरी अजीविका सरंक्षण
कानून 2014 को दिल्ली में पूरी तरह
से लागू न करने के खिलाफ हजारों
की संख्या में रेहड़ी पटरी वालों में
जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया।
इसका नेतृत्व प्रदेश कांग्रेस कमेटी
के अध्यक्ष अजय माकन ने किया।
उन्होंने कहा कि रेहड़ी पटरी वालों की
लड़ाई न सिर्फ उनके अधिकारों की
लड़ाई है बल्कि रोजगार को सुरक्षित
करने की भी लड़ाई है।
रेहड़ी पटरी काग्रेस के कार्यकर्ता
हाथों में तख्तिया लिए नारे लगा रहे
थे।अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस

अध्यक्षा सोनिया गाधी व उपाध्यक्ष राहुल
गाधी की सोच थी कि भारतवर्ष में
असंगठित रेहड़ी-पटरी वालों की
समस्याओं का निवारण किया जाए।
जिसके लिए काग्रेस की यूपीए सरकार
ने मार्च 2014 में रेहड़ी पटरी अजीविका
संरक्षण कानून संसद में पास कराया।
इस कानून के तहत न सिर्फ उनको
रोजगार देने की बात कही गई है
बल्कि उनको सुरक्षा कवच भी प्रदान
किया गया है।
उन्होंने कहा कि दिल्ली की आबादी
आज दो करोड़ पहुंच गई है इसलिए
इस कानून के तहत दिल्ली के 5
लाख रेहड़ी पटरी को अब तक लाइसेंस
मिल जाना चाहिए था। परंतु ऐसा कुछ
नही हुआ। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद
केजरीवाल हैं वो दिल्ली से बाहर घूमते
रहते हैं। उन्हें दिल्ली की जनता की
भलाई की कोई चिंता नहीं है।

 


Facebook Comments