लोया केस: नकवी का राहुल पर हमला, कहा- ‘पप्पू को अपने पाप पर ध्यान देना चाहिए’

जज बीएच लोया केस की निष्पक्ष जांच कराने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई. SC ने साफ कहा कि इस मामले की कोई जांच नहीं होगी. इस फैसले के बाद बीजेपी के नेता कांग्रेस पर आक्रामक हो गए हैं और लगातार बयान जारी कर रहे हैं. इसी कड़ी में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा, ‘कांग्रेस पार्टी को देश से माफी मांगनी चाहिए. पप्पू को अपने पाप पर ध्यान देना चाहिए.’

मुख्तार अब्बास नकवी ने इस फैसले पर कहा, ‘सत्यमेव जयते, सत्य की जीत हुई है. पीएम मोदी और अमित शाह को बर्बाद और बदनाम करने की षड्यंत्र और साजिश नाकाम हुई है. राहुल गांधी, सोनिया गांधी, कांग्रेस पार्टी को देश से माफी मांगनी चाहिए. इतनी तल्ख टिप्पणी कम होती है. कांग्रेस को आत्मचिंतन करना चाहिए. पप्पू को अपने पाप पर ध्यान देना चाहिए.’

न्‍यायपालिका को बदनाम करने की कोशि‍श: राजनाथ सिंह

वहीं, गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- यह अफसोस की बात है कि राजनीतिक हितों को साधने के लिए न्यायपालिका का इस्‍तेमाल किया जा रहा है. ये नहीं होना चाहिए, लेकिन हमारे राजनीतिक विरोधी सरकार को, हमारे नेताओं को और न्‍यायपालिका को बदनाम करने के लिए ऐसा कर रहे हैं.

बता दें, जज लोया केस पर आए इस फैसले के बाद बीजेपी ने अपने नेताओं को बयान जारी करने को कहा है. इसीलिए बीजेपी के तमाम नेता अपनी-अपनी ओर से इस मामले पर अपने विचार व्‍यक्‍त कर रहे हैं.

क्‍या है पूरा मामला?

बता दें कि जस्टिस लोया बहुचर्चित सोहराबुद्दीन शेख मामले की सुनवाई कर रहे थे. सोहराबुद्दीन मुठभेड़ के गवाह तुलसीराम की भी मौत हो गई थी.

अमित शाह के पेश न होने पर जताई थी नाराजगी

मामले से जुड़े ट्रायल को सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में ट्रांसफर किया था. इस मामले की सुनवाई पहले जज उत्पत कर रहे थे, लेकिन इस मामले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के सुनवाई में पेश नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की थी. जिसके बाद उनका तबादला हो गया था. इसके बाद जस्टिस लोया के पास इस मामले की सुनवाई आई थी.

दिसंबर 2014 में हुई थी मौत

दिसंबर, 2014 में जस्टिस लोया की नागपुर में मौत हो गई थी. जिसे संदिग्ध माना गया था. जस्टिस लोया की मौत के बाद जिन जज ने इस मामले की सुनवाई की, उन्होंने अमित शाह को मामले में बरी कर दिया था.