विनय कुमार – नव वर्ष – साप्ताहिक प्रतियोगिता

साल अब बीत गया,
सुख-दुख साथ गया,
नववर्ष का सहर्ष,
स्वागत तो कीजिये ।

साल भर जो भी किया,
पाप-पुण्य मोल लिया,
शांत मन बैठ अब,
मूल्यांकन कीजिये ।

दुखे न किसी का दिल,
रहे सब साथ मिल,
कड़वे वाणी छोड़के,
मीठे बोल बोलिये ।

नारी का सम्मान करें,
बुजुर्गो का मान करें,
नववर्ष पर अब,
प्रण सब लीजिये ।

फले-फूले खुश रहें,
व्यस्त रहें मस्त रहें,
नववर्ष पर मेरी,
दुआएँ तो लीजिये ।