विश्लेषण : CAA और NRC के पीछे क्या हो सकती है BJP की असली रणनीति

नागरिकता कानून और एनआरसी के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार भारी विरोध के बाद भी पीछे हटने को तैयार नहीं है. हालांकि इस कानून को लेकर किए जा रहे सवालों के बीच पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के जवाबों में विरोधाभास भी नजर आ रहा है. एक ओर जहां संसद में अमित शाह ने कहा कि एनआरसी को पूरे देश में लागू किया जाएगा तो वहीं पीएम मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित रैली में कहा कि एनआरसी को लेकर अभी कोई चर्चा नहीं हुई है. दूसरी ओर पीएम मोदी ने यह भी दावा किया कि देश में कहीं भी डिटेंशन सेंटर नहीं बनाया गया है जबकि असम में बने डिटेंशन सेंटर की तस्वीरें काफी पहले आ चुकी हैं. हालांकि इन बातों पर जहां बीजेपी नेता अपने हिसाब से जवाब दे रहे हैं तो विपक्ष पीएम मोदी पर झूठ बोलने का आरोप लगा रहा है. इसी बीच पूरे देश में नागरिकता कानून और एनआरसी का मुद्दे पर समर्थन और विरोध में लगातार रैलियां और प्रदर्शन जारी है.