वेलेन्टाइन डे – देवेन्द्र प्रसाद

पवित्र प्यार
तुमसे करता हूँ
बेशुमार

इक गुलाब
तुम तो दिखती हो
जैसे ख्वाब

आंखे तेरी
लगती है जैसे
अमानत मेरी

तेरी सांसे
करती है हर पल
मुझसे बातें

रुप तुम्हारा
फुलों सा दिखता
बेहद प्यारा

इस पल
आओ प्यार करें
भुलो कल

मेरा इरादा
कभी न टुटेगा
अपना वादा

यह मिलन
जन्मों-जन्मों रहेगा
ये बन्धन