सर्वे में खुलासा: दफ्तरों में 32% महिलाओं के साथ होता है यौन उत्पीड़न

0 commentsViews:

देश दुनिया में #MeToo को लेकर बवाल मचा है. इस बीच एक ऑनलाइन सर्वे से पता चला है कि 78 फीसदी पीड़ित महिलाएं कार्यस्थल पर अपने खिलाफ ज्यादती को छुपा लेती हैं. ऐसी पीड़ित महिलाओं का कहना है कि मर्जी के बगैर छूने की घटना उनके खिलाफ सबसे ज्यादा घटती हैं. शारीरिक संपर्क साधने की भी अधिकतर शिकायतें मिलीं.

तनुश्री दत्ता-नाना पाटेकर विवाद सामने आने और #MeToo कैंपेन के शुरुआती चरण के बाद यह सर्वे कराया गया. केंद्रीय राज्यमंत्री एमजे अकबर पर भी यौन उत्पीड़न का आरोप लगा है. उनके खिलाफ 12 महिलाएं सामने आई हैं जिनमें पत्रकार और अन्य महिलाएं शामिल हैं.

सर्वे करने वाली कंपनी लोकल सर्कल के अक्षय गुप्ता ने इंडिया टुडे से कहा, ‘सर्वे करने से पहले इसमें शामिल प्रतिभागियों से यौन उत्पीड़न के बारे में सबकुछ स्पष्ट कर दिया गया.’ सर्वे में 28,000 कॉमेंट्स मिले. कुल प्रतिभागियों में 50 फीसदी से ज्यादा महिलाओं ने शारीरिक संपर्क साधने और मर्जी के बिना छूने की की शिकायत की. 31 फीसदी महिलाओं ने अपने खिलाफ भद्दे कॉमेंट्स और जबरन पोर्न दिखाने की शिकायत की. 19 फीसदी महिलाओं ने माना कि उनसे शारीरिक संबंध बनाने की मांग की गई.

अक्सर ऐसा सुना जाता है कि दफ्तर में देर तक रुकने वाली महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न की घटना ज्यादा होती है लेकिन सर्वे में चौंकाने वाली बात सामने आई कि आधे से ज्यादा पीड़ितों के खिलाफ ऑफिस ऑवर के दौरान घटनाएं हुईं. 20 फीसदी से भी कम महिलाओं ने कहा कि ड्यूटी के बाद या ऑफिस के किसी प्रोग्राम में उन्हें यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ा.

 


Facebook Comments