हार जायेगा कोरोना – गौरव सिंह घाणेराव

 

हार जायेगा कोरोना

राक्षशो का देश बना चीन,दया बिलकुल भी करी ना
सुख,चैन देखो गया छीन,जैसी करी वैसी ही भरी ना
निर्दयी बन जिन्दे जीव खाये,अक्ल भी घास चरी ना
खुद तो डूबा कोरोना से पर दुनिया भी पूरी डरी ना

ऐसी फैली महामारी,भूल गए लोग थारी मारी
चीन-इटली में मरने की जैसे होड़ मची है बारी बारी
पाँव कुल्हाड़ी मार आप ही विनाश की शुरु की तैयारी
आप बचावन सब चाहे अरु भूल गए लोग दुनियादारी

जैसा काम करे हो भैया,वैसा ही तो अब भरोना
प्रकृति से खिलवाड़ करते फिर क्यों न फैले कोरोना
खालो सौगंध गलती हुई,आगे से जीवो को चरोना
हाथ मिलाने से गुरेज करो,बस अभिवादन नमस्ते करोना

दवा इसकी न बन पाई है,बस बचाव ही उपचार है
सर्दी-जुखाम,बुखार,सिरदर्द,इसके ये लक्षण चार है
मुँह ढको,और चश्मा पहनो,हाथ धोने बार बार है
महामारी फैली ऐसी है जिसके आगे विश्व लाचार है

बच्चों को बाहर ना भेजो,भेजो न मेले,बाजार
आप भी भीड़ भड़क्के से तौबा करलो इस बार
तुलसी,अदरक,लौंग,शहद का करलो काढ़ा तैयार
इम्युनिटी बढ़ा लो अपनी यही है इसका उपचार
ध्यान रखो अपना,अपनों का कमर कस लो तुम यार
सजग हम सबको रहना है,तब कोरोना जायेगा हार

गौरव सिंह घाणेराव
(अध्यापक,कवि,लेखक,विश्लेषक)
महावीर कॉलोनी,सुमेरपुर
जिला-पाली(राजस्थान)