104 साल के इस वैज्ञानिक को देश ने मरने से रोका, विदेश में जाकर तोड़ा दम

104 साल के एक ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिक ने स्विट्जरलैंड में आत्महत्या के जरिए दुनिया को अलविदा कहा. इनका नाम डेविड गुडॉल था जो अपना जीवन खत्म करने के लिए ही स्विट्जरलैंड पहुंचे थे. यह जानकारी उनकी मदद करने वाले फांउडेशन ने दी.

डेविड गुडॉल को अपने देश में आत्महत्या करने से रोक दिया गया था. इसी कारण वह ऑस्ट्रेलिया से स्विट्ज़रलैंड आ गए थे. उन्हें कोई लाइलाज बीमारी नहीं थी लेकिन उनका कहना था कि उनकी जिंदगी में अब कुछ जीने लायक नहीं रहा है और वह मरना चाहते हैं.

गुडॉल की ऑस्ट्रेलिया से स्विट्जरलैंड आने में मदद करने वाले संगठन ‘एक्जिट इंटरनेशनल ’ के संस्थापक फिलिप नित्शके ने ट्विटर पर बताया कि वैज्ञानिक ने शांतिपूर्ण तरीके से अंतिम सांस ली. उन्होंने बताया कि लाइफ साइकल क्लीनिक में आत्महत्या के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक दवा के जरिये दिन में साढ़े दस बजे वैज्ञानिक ने अंतिम सास ली.

गुडॉल एक सप्ताह पहले ऑस्ट्रेलिया से रवाना हुए थे और परिवार से मिलने के लिए फ्रांस के बोर्दो में रूके थे. इसके बाद वह सोमवार को स्विटजरलैंड के बासेल पहुंचे. उन्होंने बुधवार को पत्रकारों से कहा था, ‘‘मैं अब और जीना नहीं चाहता. मैं खुश हूं कि मेरे पास कल इसे खत्म करने का मौका होगा और इसे संभव करने में मदद के लिए यहां के चिकित्सा पेशे की सराहना करता हूं.”

साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि इस मामले में लोगों की व्यापक रूचि से ऑस्ट्रेलिया और दूसरे देश अपने कानून में बदलाव करने के लिए प्रेरित होंगे.