2000 किमी रेंज वाली अग्नि-II मिसाइल का टेस्ट कामयाब, 1 टन एटमी हथियार ले जाने में है कैपेबल

भुवनेश्वर. ओडिशा के एपीजे अब्दुल कलाम आइलैंड से मंगलवार को अग्नि-II इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (IRBM) का टेस्ट किया गया। ये टेस्ट स्ट्रैटजिक फोर्स कमांड (SFC) ने किया। मिसाइल की रेंज 2000 किमी है। इसे बढ़ाकर 3 हजार किमी किया जा सकता है। अग्नि-II मिसाइल न्यूक्लियर हथियार ले जा सकने में सक्षम है।

14 साल पहले ही सेना में शामिल कर ली गई थी मिसाइल
– अग्नि को 2004 में ही सेना में शामिल कर लिया गया था। ये जमीन से जमीन तक मार कर करने वाली मिसाइल है।
– अग्नि-II एक टन तक न्यूक्लियर वॉरहेड ले जाने में कैपेबल है। 20 मीटर लंबी अग्नि मिसाइल को डीआरडीओ की एडवांस्ड सिस्टम्स लेबोरेटरी ने तैयार किया है।
– अग्नि को इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम (IGMDP) के तहत तैयार किया गया है।

क्या खास है अग्नि में?
– दो स्टेज की मिसाइल, सॉलिड फ्यूल से चलेगी।
– लंबाई: 20 मीटर
– वॉरहेड: 1000 किलो ले जाने में कैपेबल
– रेंज: 2000 किमी
– कौन से इक्विपमेंट लगे: सटीक निशाने पर पहुंचने के लिए हाईएक्युरेसी नेविगेशन सिस्टम।

ऐसे किया गया टेस्ट
– अग्नि-II को अब्दुल कलाम (व्हीलर) आइलैंड से दागा गया। रडार और इलेक्ट्रो-ऑप्टिक इंस्ट्रूमेंट्स से इसपर नजर रखी गई।
– अग्नि-II ने बंगाल की खाड़ी में रखे गए 2 जहाजों पर निशाना लगाया।

ऐसा रहा अग्नि मिसाइल का डेवलपमेंट
– अग्नि-I की 700 किमी और अग्नि-III की रेंज 3 हजार किमी है। अग्नि-V 5 हजार किमी तक मार कर सकती है।
– अग्नि-II की प्रोटोटाइप मिसाइल पहला टेस्ट 11 अप्रैल, 1999 और अंतिम 4 मई, 2017 को किया गया था।

2000 किमी रेंज वाली अग्नि-II मिसाइल का टेस्ट कामयाब, 1 टन एटमी हथियार ले जाने में है कैपेबल, national news in hindi, national news