पर्यटन के नक्शे पर चमकेगा मु0 दीनदार खाँ कोट

 

01

गाजीपुर ब्यूरो। दिलदारनगर स्थित मु0 दीनदार खाँ कोट सहित विभिन्न स्थलों को पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह द्वारा पर्यटक स्थल घोषित किये जाने की पहल से स्थानीय लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। अस आशय की जानकारी देते हुए अल दीनदार शम्सी अकादमी के सचिव कुंवर मु0 नसीम रजा खां ने बताया कि  इससम्बन्धकीमाँग-पत्रमाननीयमंत्रीजीकोस्थानीयगाँवमेंईदकेआगमनपरप्रस्तुतकियागयाथाजिसपरमाननीयमंत्रीजीनेतत्कालप्रभावसेमाँगकीस्वीकृतिदेनेएंवदीनदारखाँकोट, मजारशरीफ, उनकेघोड़ेकीकब्र, मुगलियाशाहीदीनदारियामस्जिद-ईदगाहतकपानीपहुँचानेवालीसाइफनफौव्वारापानीटंकीवकुआँ, अलदीनदारशम्सीम्युजियमएण्डलाइब्रेरीकामु0 दीनदारखाँकेकोटपरनिर्माण, गाँवकेप्रवेशद्वारोंपरमु0 दीनदारखाँस्मृतिद्वारकानिर्माणतथासेवराईगाँवस्थितदीनदारखाँकेएकलौतेपुत्रबहरमन्दखाँकीसेवराईगाँवकोबचानेमेंदीगईजानकीकुर्बानीकोशहीदस्तम्भस्थलकेरूपमेंविकसितएंवनिर्माणआदिकार्योंकाआदेशकरनाएकसराहनीयकदमहै।नसीम रजा ने ये भी बताया कि वर्षों से इस दीनदारनगर (दिलदारनगर)की स्थापनाकर्ता मु0 दीनदार खाँ जागीरदार परगना जमानियाँ, परगना चैनपुर, परगना चौसा से जुड़े पुराने मुगल कालीन फ़ारसी दस्तावेजों को सजो कर रखना आज कारगर साबित हो रहा है।दीनदारनगरकीस्थापनाफारसीदस्तावेजकबालानामाकेअनुसार 7 मुहर्रम, सन् 1110 हिजरीमेंमु0 दीनदारखाँजागीरदारनेसमाजकेहरवर्गकोयहाँआबादकिया, यहीउनकीइन्सानियतकाकारनामाथाजिसकेकारणजबउनकेऊपरसन् 1707 ई0 मेंअसमाजिकतत्वोंएंवलुटेरोंनेहमलाकियातब 19 मुस्लिमोंएंव 11 हिन्दुओंनेअपनीजानकुर्बानकरकेअपनेचहेतेजागीरदारगरीबोंकेमसीहाकोबचानेकाकामकिया।यहीनहींजमानियाँ, चैनपुरएंवचौसाकेअपनेजागीरदारानाक्षेत्रमेंअपनीजनताकीहिफाजतएंवतरक्कीकेलिएहमेशातैयाररहतेथे।इसीवजहसेजब 16 मुहर्रम, दिनमंगल, सन् 1711 ई0 मेंजबसेवराईगाँवमेंलूट-पाटकीखबरमु0 दीनदारखाँकोमिलीतोउन्होनेअपनेएकलौतेपुत्रमु0 बहरमन्दखाँकोकुछजमीदारसाथियोंकेहमराहरवानाकिया  औरइससंघर्षमेंसेवराईआदिगाँवतोबचगएलेकिनउन्हेंशहादतकाजामपीनापड़ा।ऐसेइन्सानदोस्तमु0 दीनदारखाँकीयादगारकोबचानाएंवसवारनाहमसबकीनैतिकजिम्मेदारीहै।

श्रीनसीमरजानेकहाकिइसओरमाननीयमंत्रीकेकदमसेयकीननएकनएअध्यायकीशुरूआतहुईहै।यहीनहींआदेशकेपालनकाअसरइतनीजल्ददिखाकिवाराणसी/ विन्ध्याचलमण्डलकेक्षेत्रीयपर्यटनअधिकारीरविन्द्रकुमारअपनेसाथअभियन्ताओंकोलेकरमु0 दीनदारखाँकोट, मजार, तथास्थानीयगाँवनिवासीकुँअरमु0 नसीमरजाखाँकेजरिएजमाकीगईअपनेबुजुर्गोंकेऐतिहासिकदस्तावेज़, सिक्केवयादगारधरोहरोंकेभण्डारस्वरूपअलदीनदारशम्सीम्युजियमएण्डलाईब्रेरीआदिकाभ्रमणकियाएंवमसौदातैयारकरनेकानिर्देशभीदिया।इसअवसरपरउनकेसाथ फरीदअहमदगाजी, हाजीकरीमरजाखाँ, पूर्वप्रधानसलाहुद्दीनखाँ, पूर्वप्रधानअसलमखाँ, एनामुद्दीनखाँ, मस्सनखाँ, ग्रामप्रधानप्रतिनिधिएहसानअहमद, जुबैरखाँ, डा0 तुफैल, कुँअरजावेदखाँ, पप्पूखाँ, सरफराजखाँ, एमामखाँ, ग्यासूद्दीनखाँ, आजमरजा, उर्मिलेश पाण्डेयआदिमौजूदरहे।