सभी देशवासियों से अपील जल्द कुछ करे, साथ दे ..

खंडवा जिले में नर्मदा नदी पर बने ओंकारेश्वर बांध में इस बार पिछले वर्ष की तुलना में अधिक पानी भरा जा रहा है। इस बांध का जलस्तर पहले 189 मीटर था, जिसे बढ़ाकर 190. 5 मीटर तक पानी भरा जा चुका है। इससे घोघाल गांव सहित 30 गांवों के डूबने का खतरा बना हुआ है। सर्वोच्च न्यायालय का स्पष्ट निर्देश है कि बांध का जलस्तर बढ़ाए जाने से पहले प्रभावितों के पुर्नवास व भूमि के बदले भूमि देने की व्यवस्था की जाए, मगर न तो मध्य प्रदेश सरकार और न ही नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण इस पर अमल कर रहा है। पिछले सप्ताह भर से लगातार पानी में रहने की वजह से सत्याग्रहियों के अंग खासकर पैरों का गलना प्रारंभ हो गया है।