ठुकराई प्रेमिका कब तक बनी रहेगी भाजपा

सत्ता में रहने के हजार फायदे हैं, तो लाख झमेले भी। लगता है देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी भारतीय जनता पार्टी के नेता इसी मानसिकता के शिकार हो चुके हैं। गुजरात... Read more »

बावा नहीं बाबा बनें राहुल

वरिष्ठ भाजपा नेता प्रमोद महाजन अपने ही भाई के हाथों गोलियों से छलनी हो कर मृत्यु शैय्या पर पड़े थे। इस बीच मीडिया के साथ ही देशवासियों को भी मालूम हुआ कि... Read more »

ख़ामोशी

मांग करने लायक कुछ नहीं बचा मेरे अंदर ना ख्याल , ना ही कोई जज्बात बस ख़ामोशी है हर तरफ अथाह ख़ामोशी वो शांत हैं वहाँ ऊपर आकाश के मौन में फिर भी आंधी, बारिश धूप ,छाँव  में अहसास करता… Read more »

दंश..

स्त्री होने का दर्द कसिटता है कचोटता है मन के भीतर अनगिनत तारों को वो रो नहीं सकती कुछ कह नहीं सकती बाहर निकली तो मर्यादा का डर , सबसे ज्यादा घर से मिले संस्कारों का डर तो कभी आलोचना… Read more »

सतीत्व

मैं लम्बे समय से दाम्पत्य सलाहकार के रूप में जरूरतमंदों को अपनी सेवाएँ प्रदान करता रहा हूँ। जिससे प्राप्त अनुभवों को मैं विभिन्न सन्दर्भों में व्यक्त करता रहता हूँ! इसी कड़ी में यहाँ कुछ... Read more »

तू क्या हैं ..??

तू क्या हैं /?? क्या होना चाहता था अभी ! इंसान के बोलने से पहले इश्वर खेल खेल गया ~~ कैसे तेल का दिया जलाऊ अपने आँगन में उनके घर का तो चिराग ही बुझ गया ~~ अभी... Read more »

आवाज़

आवाज़ जो धरती से आकाश तक सुनी नहीं जाती वो अंतहीन मौन आवाज़ हवा के साथ पत्तियों की सरसराहट में बस महसूस होती है पर्वतों को लांघकर सीमाएं पार कर जाती हैं उस पर चर्चायें की जाती हैं पर रात… Read more »

जब अन्याय और अत्याचार चर्म पर पहुँचता है तो नक्सलवाद जन्मता है!

जब अन्याय और अत्याचार चर्म पर पहुँचता है तो नक्सलवाद जन्मता है!  महाराष्ट्र के एक गॉंव में एक आततायी द्वारा कई दर्जन महिलाओं के साथ जबरन बलात्कार किया जाता रहा। पुलिस कुछ करने के... Read more »

पीडि़तों के जख्मों पर हवाई दौरे का नमक

एक पूरी की पूरी स्पेशल ट्रेन को रेलवे की भाषा में सेलून कहते हैं। बिटीश जमाने में अंग्रेज अधिकारी इसमें सफर किया करते थे। आज भी रेल मंत्री , रेल राज्य मंत्री... Read more »

हर रूप में वंदनीया हो स्त्री!

तुम स्त्री हो! माँ !तुम दुनिया की सबसे सुंदर स्त्री हो और तुमसे ही मैं हूँ यह मैंने कब कहा लेकिन फिर भी पत्नी ने सुन लिया हे मेरी प्राण प्रिये! दिल से कहते -सुनते हुए भी मुखर हो यह… Read more »