येस बैंक के ग्राहकों की समस्याएं निपटाने पर वित्त मंत्रालय स्वयं नजर रख रहा

येस बैंक संकट से निबटने में आरबीआई और वित्त मंत्रालय और हमारी जाँच एजेंसियों ने बहुत तेजी दिखाई वरना लोगों में देश के बैंकिंग तंत्र के प्रति अविश्वास बढ़ता। येस बैंक के... Read more »

रंग – इन्दिरा कुमारी

आओ सखी तुझे रंग लगा दूं स्नेह घोल तुझे भंग पिला दूं। इस रंग की महिमा अजब है प्रकृति में संगम गज़ब है इससे अब परिचित करा दूं आओ सखी तुझे रंग लगा दूं स्नेह घोल अब भंग... Read more »

गुरुदेव – सूर्य प्रकाश उपाध्याय

हे यतिवर शत्-शत् प्रणाम! काषाय वस्त्र त्रिदण्ड धरे, यज्ञोपवित शोभित कृशतन। कर वाम कमण्डल राजत है, अमृत बिखेरता कमल नयन। बैठे रसाल तरु के तल में, पर्णशाल पुष्प दल से मण्डित। सब वेद, शास्र,उपनिषद तापसे,... Read more »

अरविंद केजरीवाल ने दी BJP को चुनौती, कहा- मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित करो, मैं बहस के लिए तैयार हूं

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने BJP को चुनौती दी है कि वह दिल्ली में अपने मुख्यमंत्री उम्मीदवार के नाम का ऐलान... Read more »

पूरे देश में लागू होगी NRC? संसद में सरकार से पूछा गया सवाल तो मिला ये जवाब

देश के कई स्थानों पर संशोधित नागरिकता कानून(सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों के बीच सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर... Read more »

अगर मेरे पास पावर होता तो 2 घंटे में शाहीन बाग का रास्ता खुलवा देता : अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हमारी पार्टी तो बहुत छोटी है तो फिर बीजेपी दिल्ली विधानसभा चुनाव में इतनी बड़े नेताओं को लेकर क्यों आ रही है. एनडीटीटीवी से... Read more »

रेणु बाला  – देश,नागरिक – साप्ताहिक प्रतियोगिता

हम भारत के वयस्क नागरिक हिन्दुस्तान हमारा है , देश के भविष्य के निर्नायकों में स्थान हमारा है . देश के पहरेदार हम हैं भावी कर्णधार हम हैं वक्त आने पर दिखला देंगे हममें कितना दम... Read more »

गोरख नाथ पाण्डेय  – देश,नागरिक – साप्ताहिक प्रतियोगिता

विश्व  की  रंगीनियत  से  लाख  अपना  दिल लगाये, दिल के मन्दिर  में  मगर  इस देश का दीपक जलाये. पँख  को  आकाश   सौंपे  गगनभेदी   बन  उड़े  पर, अपनी  जननी  से  जुड़े  आशीष  ले  रिश्ता  निभाये. भारती के... Read more »

प्रियंका सिंह  – देश,नागरिक – साप्ताहिक प्रतियोगिता

देश मेरा तुम्हारा सभी का सुनो है,लगे तोड़ने पर क्यों इसको हो तुम मजहबी चादरों का जो ताना बुना है,लगे बांटने पर क्यों इसको हो तुम ये कैसी विषमता जो फैला रहे हो,देश को... Read more »

दीपक अनंत राव  – देश,नागरिक – साप्ताहिक प्रतियोगिता

देश की ये संस्कृति,जहाँ जहाँ है जागती, वहाँ वहाँ दिलों में हम खुशहाली को ही देखती देखो इस जहान में परंपवित्र धरती है वो केवल एक धरित्रि हो जो भारताम्बा ही कहें ॥ विराट सभ्यता की... Read more »