दामिनी की अंतिम इच्छा

दामिनी की अंतिम इच्छा
            मैं जा रही हु सबको छोड़कर ,सबकी आँखों में आंसू भिगोकर , नहीं पता था ऐसा वक्त आएगा ,इन दरिंदों के हत्थे चढ़ जाउंगी, कह देना माँ से ,मत बहाएं आंसू , तेरी दामिनी… Read more ›

शायर-ए-आजम मिर्जा ग़ालिब

शायर-ए-आजम मिर्जा ग़ालिब
                        रगों में दौड़ने फिरने के हम नहीं कायल, जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है। उनकी शेरो-शायरी की पूरी दुनिया कायल है। आम लोगों… Read more ›

क्यों करती हो वाद-विवाद

क्यों करती हो वाद-विवाद
            क्यों करती हो वाद-विवाद बैठती हो स्त्री विमर्श लेकर जबकि लुभाते हैं तुम्हें पुरुषतंत्र के सारे सौंदर्य उपमान सौंदर्य प्रसाधन, सौंदर्य सूचक संबोधन जबकि वे क्षीण करते हैं तुम्हारे स्त्रीत्व को हत्यारे हैं भीतरी… Read more ›

भरपेट भूखा

भरपेट भूखा
                वंचितों के सपने विद्रोह की छाती पर अंकुरित होने लगे अन्याय की धरती भी नहीं रोक सकी नहीं रोक सकती पैदा होने से इन सुलगते सपनों को वादी खामोश है प्रतिवादी ताकतवर… Read more ›

युद्धरत औरत

युद्धरत औरत
          सुबह सवेरे एक बनावटी मुस्कान पहने निकलती है घर से बार-बार मुखौटे बदलते थक जाती है कृत्रिम हंसी, खुश्क आंखें और खोखले मन आतंकित करते हैं तब भी विशिष्टों में नहीं रच पच पाती थकी… Read more ›

बोल की लब आजाद हैं तेरे…?

बोल की लब आजाद हैं तेरे…?
              कहावत है वक्त बुरा हो तो उंट पर बैठे इंसान को भी कुत्ता काट लेता है। कुछ ऐसा ही हुआ मुंबई की शाहीन व उसकी सहेली रेणु के साथ। शाहीन धाढा ने सोसल… Read more ›

कब निर्मल होगी गंगा…

कब निर्मल होगी गंगा…
            सोयेंगे तेरी गोद में एक दिन मर के हम दम भी तोड़ेंगे तेरा दम भर के हम, हमने तो नमाजें भी पढ़ीं हैं अक्सर गंगा तेरी पानी में वजू करके। नजीर बनारसी के ये… Read more ›

दास्तान-ए-सुविधा शुल्क ( सागर उवाच )

दास्तान-ए-सुविधा शुल्क ( सागर उवाच )
          दास्तान-ए-सुविधा शुल्क शर्मा जी को हमेशा कसक रहता कि वे सरकारी मुलाजिम न हुए। जब भी हमारे यहां उनकी आमद होती, बस एक ही रट लगाते। भाई साहब… काश! मैं भी सरकारी मुलाजिम होता। मेरे… Read more ›

मेरा विशवास ..लाडली गीतू

मेरा विशवास ..लाडली गीतू
मेरा विशवास ..लाडली गीतू मैं (गीता गाबा) जो बताने जा रही हू यह एक कहानी नहीं बल्कि एक सच्ची घटना है | मेरी उम्र २० वर्ष है मेरा छोटा सा परिवार है जिसमे मेरी माँ ,पिताजी , बड़ा भाई और… Read more ›

द म्यूजियम हॉल, अकादेमी ऑफ़ फाईन आर्ट्स एंड लिटरेचर, Program

द म्यूजियम हॉल, अकादेमी ऑफ़ फाईन आर्ट्स एंड लिटरेचर, Program
आप सभी सादर आमंत्रित हैं, आईये और इस कार्यक्रम का हिस्सा बनिए…………. द म्यूजियम हॉल, अकादेमी ऑफ़ फाईन आर्ट्स एंड लिटरेचर, 4/6 , सिरीफोर्ट इनस्ट. एरिया, गेट नो.२ के पास, (नजदीकी मेट्रो स्टेशन ग्रीन पार्क से वाकिंग डिस्टेंस), नयी दिल्ली.… Read more ›