CCTV पर जारी संग्राम, LG और CM केजरीवाल के बीच लेटर वॉर

दिल्ली में सीसीटीवी टेंडर को लेकर सियासत जारी है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल द्वारा एक दूसरे को भेजे जा रहे ख़त से मामला और गर्मा गया है. इससे पहले कांग्रेस ने सीसीटीवी की टेंडर प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए ‘आप’ सरकार पर घोटाले के आरोप लगाए हैं.

दिल्ली में सीसीटीवी कैमरे न लगने से नाराज़ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को आम आदमी पार्टी के विधायकों और मंत्रियों के साथ एलजी हाउस तक पैदल मार्च किया. दिल्ली के सीएम ने एक जनसभा के दौरान कहा, ‘कहते हैं केजरीवाल लड़ता बहुत है, अरे तुम सीसीटीवी कैमरे की फ़ाइल पास कर दो तो मैं क्यों लड़ूंगा. एलजी सर, मैं अपने सारे विधायकों और मंत्रियों को लेकर आपसे मिलने आ रहा हूं और अगर आपने सीसीटीवी की फ़ाइल रोकी तो फिर सारी दिल्ली आएगी. बता दें कि इससे पहले उपराज्यपाल ने केजरीवाल को खत लिखा था.

उपराज्यपाल अनिल बैजल के खत की मुख्य बातें –

•  उपराज्यपाल ने मुख्यमंत्री को बताया कि एलजी कार्यालय में सीसीटीवी कैमरे लगाने की योजना से संबंधित कोई प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है.

• सीसीटीवी कैमरों की स्थापना के काम से संबंधित प्रस्ताव केवल निर्वाचित सरकार के साथ लंबित है. सीसीटीवी के काम के प्रस्ताव को रोकने के लिए इस कार्यालय द्वारा कोई निर्देश जारी नहीं किया गया है.

• कानून प्रवर्तन, अपराध और जांच की रोकथाम के लिए प्रभावी ढंग से सीसीटीवी कैमरों का उपयोग करना, सीसीटीवी के लिए एक एसओपी / नियामक ढांचा की आवश्यकता है. यही कारण है कि समिति की स्थापना हुई.

अरविंद केजरीवाल के एलजी को भेजे जवाबी ख़त की मुख्य बातें –

• दिल्ली के निवासियों की सुरक्षा से संबंधित एक महत्वपूर्ण मुद्दे पर मैं आपके पत्र के जवाब में लिख रहा हूं. मुझे बहुत दुख हुआ कि आपने महिलाओं की सुरक्षा और सुरक्षा के रूप में इस तरह के एक महत्वपूर्ण मुद्दे को राजनीतिक बनाने की कोशिश की है. मैं ईमानदारी से महसूस करता हूं कि इस मुद्दे पर सभी पार्टियों को एक साथ काम करना चाहिए.

• आपने कहा है कि आपने सीसीटीवी कैमरे परियोजना को नहीं रोका है. एक साधारण सवाल उठता है तो आपने इस समिति को क्यों स्थापित किया? जाहिर है, निर्वाचित सरकार के लिए बाधाएं पैदा करने के लिए यह किया गया है.

•  आपने कहा है कि पिछले दो वर्षों में अन्य एजेंसियों द्वारा दो लाख से अधिक कैमरे स्थापित किए गए थे. तब आपने कोई समिति क्यों स्थापित नहीं की? एनडीएमसी दिल्ली का सबसे ज्यादा सुरक्षा क्षेत्र है. पिछले दो वर्षों में उन्होंने कई हजार कैमरे स्थापित किए हैं. तब आपने समिति की स्थापना क्यों नहीं की? अब जब दिल्ली सरकार सीसीटीवी कैमरे स्थापित करना चाहती है तो आपने निर्वाचित सरकार को छोड़कर मनमाने ढंग से इस समिति की स्थापना की है.

• आपने कहा है कि यह समिति कैमरे की स्थापना के लिए नियामक ढांचे, नियमों और प्रक्रियाओं का मसौदा तैयार करेगी. कौन सा कानून एलजी को विनियामक ढांचे को फ्रेम करने और सीसीटीवी कैमरे स्थापित करने के लिए कानून बनाने और नियम बनाने के लिए ऐसी समिति स्थापित करने की शक्ति देता है? महोदय, एक संविधान है और कानून और एलजी उन कानूनों और संविधान से बंधे हैं. आप संविधान का उल्लंघन क्यों कर रहे हैं?

• यदि समितियां कानून, नियम, नीतियां और ढांचा बनाती हैं, तो कैबिनेट, संसद और असेंबली क्या करेंगे?

मुख्यमंत्री ने आगे अपने खत में एनडीएमसी क्षेत्रों में चल रहे मॉडल का भी ज़िक्र किया है.

1) कैमरे का स्थान स्थानीय आरडब्ल्यूए, स्थानीय पुलिस और कैमरे की स्थापना करने वाली कंपनी द्वारा तय किया जाता है.

2) डीवीआर आरडब्ल्यूए द्वारा प्रदान किए गए कमरे में रखा गया है.

3) फ़ीड एनडीएमसी, आरडब्ल्यूए और पुलिस के लिए उपलब्ध है.

अरविंद केजरीवाल ने एलजी से पूछा है कि इस तरह के मॉडल को खारिज़ क्यों किया गया. केजरीवाल ने आगे एलजी को बताया कि वो सीसीटीवी बनी समिति को अस्वीकार करते हैं, क्योंकि इसे बाधा पैदा करने और इसे बिना किसी कानूनी आधार पर बनाया गया है. जो अवैध और असंवैधानिक हैं.