CWG 2018 Opening Ceremony : उद्घाटन समारोह में दिखी ऑस्ट्रेलियाई संस्कृति की झलक

0 commentsViews:

नई दिल्ली: बुधवार को भारतीय समयानुसार करीब साढे़ तीन बजे ऑस्ट्रेलिया के क्ववींसलैंड में ओपनिंग सेरेमनी के आगाज के साथ ही 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आगाज हो गया है.  समारोह की शुरुआत से ऑस्ट्रेलियाई की सस्कृति के दर्शन देखने को मिले और कार्यक्रम की भव्यता ने दुनिया भर के खेलप्रेमियों का दिल जीत लिया. खेलों में 71 कॉमनवेल्थ देश हिस्सा ले रहे हैं, जिनमें 19 खेलों के तहत 275 स्पर्धाओं का आयोजन किया जाएगा. ये खेल बुधवार से शुरू होकर 15 अप्रैल तक चलेंगे. भारत का 218 सदस्यीय दल भी 15 प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेगा.

बैटमिंटन स्टार पीवी सिंधु ‘परेड ऑफ दे नेशन’ में भारतीय दल की ध्वजवाहक की भूमिका निभाएंगी. बहरहाल, फिलहाल इस समय दुनिया भर में ओपनिंग सेरेमेनी की ही चर्चा है. उद्घाटन समारोह में करीब 4000 कलाकार अपने प्रदर्शन का जलवा बिखेरेंगे. समारोह का सीधा प्रसारण सोनी सिक्स और सोनी सिक्स एचडी पर किया जाएगा. इसके अलावा सोनी टेन 3 और सोनी टेन 3 एचडी पर हिंदी में भी सीधा प्रसारण होगा.

जैसे-जैसे  समय आगे बढ़ेगा, वैसे-वैसे ट्विवटर सहित सोशल मीडिया पर भव्य ओपनिंग सेरेमनी की तस्वीरें और चर्चा पैर पसार लेगी. उदघाटन समारोह के कला और सांस्कृतिक विभाग के प्रमुख डेविड जॉकवर दुनियर भर में कई समारोह का आयोजन कर चुके हैं. वह पिछले दो दशकों से इस पेशे में जुड़े हैं, लेकिन क्वींसलैंड से वह सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं.
इस समारोह को अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ आयोजन बनाने में जॉकवर ने सबकुछ झोंक दिया है. बता दें कि डेविड जॉकवर एथेंस 2004 और बीजिंग 2008 ओलंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह से भी जुड़े रहे हैं.

 जाहिर कि अब जब आयोजन ऑस्ट्रेलिया में होने जा रहा है, तो डेविड ऑस्ट्रेलिया की जड़ों और सांस्कृति अंदाज को दुनिया के सामने परोसने में अपनी टीम के साथ जमकर मेहनत की है. उन्होंने कहा कि गोल्ड कोस्ट का अनुभव मेरे लिए अभी तक पूरी तरह जुदा रहा है, लेकिन यह आयोजन मेरे लिए पूरी तरह अलग और मुझे यहां घर जैसा महसूस हो रहा है. ओपनिंग सेरेमनी की तैयारी जॉकवर ने साल 2016 में ही शुरू कर दी थी.

करीब तीन साल के अध्ययन और तैयारी के बाद अब डेविड जॉकवर की मेहनत दुनिया देखेगी. इसमें आपको गोल्ड कोस्ट, क्वींसलैंड और ऑस्ट्रेलिया के लोगों के नजरिए, भावना और संस्कृति के दर्शन होंगे. साथ ही, आयोजन के जरिए गोल्ड कोस्ट से जुड़ी सर्फिग और इसके भीतर इलाकी की कहानियों के बारे में भी बताया जाएगा.

Facebook Comments