हनीमून के लिए बेस्ट जगह है नेपाल

0 commentsViews:

nepal0

नेपाल घूमना अपने देश में घूमने
जैसा ही है। प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण
नेपाल में विश्व प्रसिद्ध पशुपतिनाथ
मंदिर के अलावा और भी बहुत से
रमणीक पर्यटन स्थल हैं। अगर आप
भी जल्द ही विवाह बंधन में बंधने वाले
हैं और हनीमून के लिये विदेश जाने
की प्लानिंग कर रहे हैं तो नेपाल एक
बेहतर विकल्प है। जी हां, कम खर्च में
विदेश की सैर।
दरअसल नेपाल घूमना अपने देश
में घूमने जैसा ही है। प्रा.तिक सुंदरता
से परिपूर्ण नेपाल में विश्व प्रसिद्ध
पशुपतिनाथ मंदिर के अलावा और भी
बहुत से रमणीक पर्यटन स्थल हैं।
छोटे से पहाड़ी देश नेपाल की आय
का प्रमुख स्त्रोत पर्यटन ही है। इसका
उत्तरी हिस्सा हिमालय की चोटियों से
घिरा हुआ है। यही नहीं दुनिया की 10
सबसे उंची चोटियों में से आठ अकेले
नेपाल में ही हैं। दुनिया की सबसे
ऊंची चोटी एवरेस्ट नेपाल में ही स्थित
है यहां इसे सागरमाथा कहते हैं। नेपाल
हिंदू और बौद्ध धर्म की साझा विरासत
खुद में समाए हुए है। इतनी सारी
चीजें पर्यटकों को आकर्षित करने के
लिए काफी हैं। 1. पशुपतिनाथ: यूनेस्का

विश्व सांस्.तिक विरासत स्थल की सूची
में शामिल पशुपतिनाथ मंदिर बागपति
नदी के किनारे स्थित है।
पशुपतिनाथ भगवान शिव को ही
कहा जाता है। यह सिर्फ धार्मिक स्थल
के रूप में ही नहीं बल्कि सांस्.तिक
स्थल के रूप में भी प्रसिद्ध है। हिंदू ध्
ार्म के अलावा गैर हिंदू पर्यटक भी
दुनिया भर से यहां आते हैं। हालांकि
गैर हिंदू पर्यटक इस मंदिर को बागमति
नदी के दूसरे किनारे से ही देख सकते
हैं। पर्वत श्रृखलाओं से घिरा यह यह
मंदिर अपने संरचना के शिल्प के लिए
भी जाना जाता है।
2. लुंबिनी: गौतम बुद्ध की
जन्मस्थली लुंबिनी दुनिया भर के बौद्ध
अनुयायियों का तीर्थस्थल है। यह स्थान
भारत-नेपाल सीमा से कुछ ही दूरी
पर स्थित रुमिनोदेई गांव ही लुम्बनी
गांव है। सम्राट अशोक के स्मारक
स्तंभ के लिए जाने जाना वाला यह
स्थल यूनेस्को की विश्व विरासत सूची
में भी शामिल है। सम्राट अशोक ने इसे
अपनी नेपाल यात्रा की स्मृति में
बनावाया था। यहां का प्रमुख आकर्षण
केंद्र 8 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ
बाग है। इसके अलावा मायादेवी मंदिर
भी तीर्थयात्रियों के बीच खासा लोकप्रिय
है। इसमें गौतम बुद्ध की मां मायादेवी
की मूर्ति है। इस मूर्ति मायादेवी में
गौतम बुद्ध का जन्म देती हुई दिखाई
गई हैं।
3. देवघाट धाम: देवघाट धाम भी
नेपाल का प्रमुख पर्यटन स्थल है।
देवघाट धाम काली गंडकी और त्रिशूली
नदियों के संगम पर स्थित है। मकर
सक्रांति के दौरान हिंदू धर्म के अनुयायी
बड़ी संख्या में यहां आते हैं। इस दिन
श्रद्धालु पवित्र नदी में डुबकी लगाते
हैं।
इसके अलावा यहां पर घूमने लायक
कई ऐतिहासिक स्थल भी हैं। यहां पर
त्रिवेणी मंदिर, वाल्मीकि आश्रम, सोमेश्वर
कालिका मंदिर किला, पांडवनाथ,
कबिलासपुर किला जैसे कई स्थान हैं
जिन्हें पर्यटक खास तौर पर देखना
पसंद करते हैं।
4. चांगुनारायण मंदिर: इस मंदिर
को यहां का सबसे प्राचीन मंदिर कहा
जाता है। इस मंदिर का निर्माण चौथी
शताब्दी में किया गया था। कुछ कारणों
से इसे दोबारा 1702 मे भी बनवाया
गया। चांगुनारायण मंदिर शिवपुरी
पहाडियों पर स्थित है। इस मंदिर में
शेषनाग के साथ भगवान विष्णु की
मूर्ति रखी गई है। पत्थर से बनी यह
मूर्ति शिल्प कला का अद्भुत नमूना
है। 5. मुक्तिनाथ: मुक्तिनाथ भी हिंदू ध्
ार्म का प्रमुख तीर्थस्थल है। वैष्णव
संप्रदाय का प्रमुख तीर्थ स्थल मुक्तिनाथ
शालिग्राम भगवान के लिए जाना जाता
है। शालिग्राम दरअसल एक पवित्र
माना जाने वाला पत्थर है। इस पत्थर
की पूजा की जाती है। इस क्षेत्र को
मुक्ति क्षेत्र भी कहा जाता है। मान्यता है
कि यहां आने से मोक्ष प्राप्त किया जा
सकता है। यहां की तीर्थयात्रा करना
थोड़ा मुश्किल है क्योंकि इस क्षेत्र की
यात्रा में हिमालय क्षेत्र की बड़ी पर्वत
श्रृंखलाओं को पार करना होता है।

 


Facebook Comments