DMAK नेता कनिमोझी: पिता करुणानिधि के साहित्यिक विरासत को संभालने वाली बेटी

0 commentsViews:

 

मुथुवेल करुणानिधि कनिमोझी फिलहाल तमिलनाडु से राज्यसभा सांसद हैं. वह तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि और उनकी तीसरी पत्नी रजती अम्माल की बेटी हैं. वह द्रविण मुन्नेत्र कणगम (DMK) से जुड़ी हैं, और पार्टी की कला, साहित्य और तर्कवाद शाखा की प्रमुख हैं.

इस तरह उन्होंने अपने पिता के ‘साहित्य‍िक विरासत’ को संभाला है. उनके सौतेले भाई एम.के अलागिरी पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे और एम.के. स्टालिन तमिलनाडु के पूर्व डिप्टी सीएम रहे. उनके पिता एम करुणानिधि की 7 अगस्त, 2018 को मौत हो गई. वह द हिंदू नेशनल प्रेस एम्प्लॉयीज यूनियन की अध्यक्ष चुनी गई थीं. वह इस पद पर चुनी जाने वाली पहली महिला थीं.

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

वह 51 साल की हैं. उनका जन्म 5 जनवरी, 1968 को मद्रास (अब चेन्नई) में हुआ था. उन्होंने चेन्नई के प्रजेंटेशन कॉन्वेंट से स्कूली शिक्षा हासिल की और एथिराज कॉलेज फॉर वीमेन से मास्टर डिग्री ली. उनकी दो बार शादी हुई. उनकी पहली शादी 1989 में अथिबन बोस से हुई थी, जो कि शिवकाशी के कारोबारी हैं. इसके बाद दूसरी शादी 1997 में जी. अरविंद से की जो सिंगापुर में रहने वाले तमिल लेखक हैं. उनका एक बेटा है जिसका नाम आदित्यन है.

राजनीति में आने से पहले कनिमोझी पत्रकार थीं. उन्होंने द हिंदू, तमिल पत्रिका कुंगुमम और सिंगापुर के तमिल अखबार तमिल मुरासू के लिए काम किया. उन्होंने तमिल भाषा में कविताएं भी लिखी हैं. वह राज्य में रोजगार मेलों आदि के आयोजन में काफी सक्रिय रही हैं.

राजनीतिक करियर

मई, 2007 में डीएमके ने कनिमोझी को राज्यसभा का सदस्य बनाया और 2013 में वह फिर से राज्यसभा सदस्य चुनी गईं. वह राज्यसभा में तमिलनाडु का एक तरह से चेहरा हैं और अक्सर राज्य के मसले उठाती रही हैं. वह हिंदू नेशनल प्रेस यूनियन के अध्यक्ष पद पर चुनी जाने वाली पहली महिला थीं. वह डीएमके की वीमेन विंग की सचिव हैं.

 


Facebook Comments