खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थ

शहर में फूड सेफ्टी एक्ट की सरेआम धज्जियां उड़ रही हैं। स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी के कारण शहर में जगह-जगह लगने वाली रेहड़ियों व ज्यादातर दुकानों पर खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थ लोगों को बीमारियों की सौगात दे रहे हैं। हैरत की बात है कि इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग अंजान है। विभाग की यह चुप्पी कई तरह के सवाल पैदा कर रही हैं। यही नहीं, इससे विभाग की कार्यप्रणाली पर भी साफ रूप से सवालिया निशान लग रहा है। पंजाब उदय की टीम ने जब शहर के विभिन्न क्षेत्रों बेल्ला चौक, गिआनी जेल सिंह नगर , रेलवे स्टेशन के पास, सिन्ध बैंक चौक, सब्जी मंडी के पास का दौरा किया तो वहां पर लगीं रेहड़ियों पर खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थो के साथ लोगों को बीमारियां परोसी जा रही थीं। रेहड़ियों के पास लगे कूड़े के ढेर, सड़क से उठने वाली धूल मिट्टी के कण और खाद्य पदार्थो पर मक्खियां भिनभिना रहीं थीं। इस संबंध में पंकज शर्मा , सुरिंदर, राजेश मल्होत्रा , कर्नेल सिंह , नीरज लाम्बा, मुन्ना मिश्रा, सतीश कुमार , जसविंदर कौर  और सुरिंदर ने स्वास्थ्य विभाग की ढुलमुल कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि विभाग को जिला प्रशासन की ओर से जिले में बिक रहे गुणवत्ता रहित खाद्य पदार्थो कि बिक्री पर अंकुश लगाने में मुंह की खानी पड़ रही है। इस कारण शहर में किसी भी समय कोई भयानक बीमारी फैलने के अंदेशे से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से बरसात के मौसम के मद्देनजर शहर में खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थो की बिक्री की रोकथाम के लिए अभी तक कोई भी मुहिम नहीं चलाई गई है। इस कारण शहरवासी किसी भी समय कोई बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।  जिले के लोग पहले ही पीलिया जैसी बीमारी का दंश झेल चुके हैं। विभाग की ओर से तब के समय में किए गए प्रयासों के कारण शहर बीमारियों की चपेट से काफी तक बचा हुआ है। विभाग की ओर से शहर में बिक रहे गुणवत्ता रहित खाद्य पदार्थो की बिक्री पर रोक लगाने के लिए भी विशेष प्रयास किए जाएंगे। इसके लिए विभाग के अधिकारियों को हिदायतें भी जारी कर दी गई हैं। फोटो केप्शन :- शहर में खुले में बिक रहे खाद्य प्थार्थ ( फोटो :- पियूष  )
Piyush Teneja