स्वस्थ दांतों के लिए स्वस्थ मसूढ़े जरूरी

0 commentsViews:

pt copy

दांत हमारे शरीर का वह हिस्सा हैं
जिनके बिना हम भोजन की कल्पना
नहीं कर सकते हम सभी हमेशा यह
चाहते हैं कि हमारे दांत स्वस्थ व
मजबूत रहें। दांतों की देखभाल की
जितनी जरूरत होती है उतनी ही
जरूरत मसूढों की देखभाल की भी
होती हैं। क्योंकि मसूड़े जितने मजबूत
होते हैं दांत भी उतने ही मजबूत रहते
हैं। दांत कितने भी स्वस्थ हों लेकिन
यदि मसूडे़ रोग से ग्रसित हैं तो दांतों
के खराब होने का खतरा हमेशा बना
रहता है। प्रारंभ में मसूढों से सूजन
होती है और फिर कुछ समय बाद
दांतों का हिलना भी शुरू हो जाता है।
यदि इस स्थित में दांतों की उचित
देखभाल न की जाए तो दांत गिरने
शुरू हो जाते हैं। यदि दांत न भी
हिलने लगें तो भी कुछ परेशानी का
सामना करना ही पड़ता है, जैसे, मुंह
से बदबू आना, मसूढों से खून आना या
मसूढों में दर्द होना आदि।
मसूढों में सूजन आना ही पायरिया
को जन्म देता है। यह एक बहुत आम
बीमारी है। यह दुनिया के हर भाग में
होती है। यदि कोई अपने स्वास्थ्य के
लिए जागरूक हो तो वह इस बीमारी
से परेशान हुए बिना रह सकता है
वरना 75 फीसदी लोग जीवन में कभी
न कभी जिंजिंवाइटिस अर्थात मसूढों
के सूजने से जरूर पीडि़त होते हैं।
पायरिया का रोग अक्सर उसी
स्थिति में होता है जब कोई अपने दांतों
व मसूढों की साफ सफाई की ओर
ध्यान नहीं देता। इससे दांतों और
मसूढों के बीच भोजन के टुकड़े, लार
और बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं। इसे
दंत चिकित्सक प्लाक कहते हैं। प्लाक
ब्रश करने के 4 से 12 घंटों के भीतर
बनना शुरू होता है और अगर इसको
रोकने के लिए जरूरी उपाय न किये
जाएं तो यह सख्त होकर दांतों पर
मैल की परत के रूप में जमा हो जाता
है जिससे मसूढों में सूजन आती है।
मसूढों के सूजने की वजह से उनका
रंग सुर्ख हो जाता है। उनमें जलन भी
होने लगती है। कभी-कभी उनमें से
खून भी निकलता है। इस स्थित मिें भी
उपचार न किया जाए तो मसूढों के
नीचे की हड्डी और दूसरे ऊतकों में भी
सूजने और सड़ने का सिलसिला शुरू
हो जाता है। इसे पेरीओडोंटाइटिस
कहते हैं।
हमें अपने दांतों और मसूढों की
अच्छी तरह से देखभाल करनी चाहिए
ताकि सारी उम्र तक ये हमारे साथ
रहें। इसके लिए कुछ आवश्यक सुझाव
हैं जिन्हें पालन करना हम सभी के
लिए आवश्यक है आइए इन पर एक
नजर डालें-दांतों और मसूढों को सुबह
शाम एक निश्चित समय देना चाहिए।
हमें ब्रश करने की क्रिया को अच्छी
तरह से समझ लेना चाहिए। इसे मात्र
एक दैनिक क्रिया नहीं समझना चाहिए।
सुबह उठने के बाद या नाश्ते के
पश्चात और रात में सोने से पहले
पांच मिनट समय निकालकर ठीस से
ब्रश करें। इसे अपनी दिनचर्या में
शामिल कर लें। चाहे कुछ भी हो पर
आप हर हाल में ब्रश करने के बाद ही
आप बिस्तर पर सोने के लिए जाएं।
ब्रश करने का सही तरीका यह है
कि ब्रश को मसूढों व दांतों के ऊपर
45 डिग्री कोण से धीरेघ्धीरे हल्के हाथ
से घुमाएं। पहले गोलघ्गोल, फिर ऊपर
से नीचे और फिर नीचे से ऊपर। ब्रश
को गोलाकार घुमाने से मसूढों की
मालिश होती है और ऊपर नीचे चलाने
से दांतों में फंसे अन्न कणों के बाहर
निकलने से दांतों की सफाई हो जाती
है। ब्रश करते समय हमें दांतों की
बाहरी सतह के साथघ्साथ अन्दरूनी
सतह की भी सफाई करनी
चाहिए।हमेशा नरम रेशों वाले ब्रश का
ही इस्तेमाल करना चाहिए। यह दांतों
और मसूढों के लिए कोमल रहता है।
सख्त रेशों वाला ब्रश चाहे ज्यादा दिन
तक चलता है मगर उससे दांतों को
इनेमल जल्दी घिसता है। जो कि दांतों
के लिए अच्छा नहीं होता।हर तीन
महीने में ब्रश को बदलना चाहिए ताकि
ब्रश के रेशों की कोमलता कायम रह
सके। मुलायम ब्रश मसूढों और दांतों
के लिए बहुत अच्छे होते हैं। कुल्ला
करने की आदत भी मसूढों और दांतों
के स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक
होती है। इससे मुंह में बचे अन्नकणों
की काफी हद तक सफाई हो जाती है
और बैक्टीरिया को पैदा होने का मौका
भी नहीं मिलता। आज के आधुनिक
युग में हम कुल्ला करने जैसी छोटी
सी आदत को भूलते जा रहे हैं पर हमें
इस छोटी सी आदत के फायदों को
ध्यान में रखकर इसे अपना लेना
चाहिए। कुछ भी खाने के बाद हमें
कुल्ला अवश्य करना चाहिए।
लौसिंग (धागे से दांतों की सफाई)
दांतों में फंसे भोजन के कण व प्लाक
निकालने के लिए काफी लाभदायक
क्रिया है। दांतों के बीच लास से उनकी
निरंतर सफाई करनी चाहिए। इसके
लिए 45 सेंटीमीटर का लास इस्तेमाल
करते हुए उसे दांतों के बीच डालकर
धीरेघ्धीरे आगेघ्पीछे करते हुए दांत की
जड़ तक सफाई करनी चाहिए।दांतों
की सफाई रखने के लिए हमें माउथवाश
का भी इस्तेमाल करना चाहिए। लिस्ट्रीन
जैसा माउथवाश बैक्टीरियारोधक होता
है और मसूढों और दांतों को प्लाक से
बचाकर रखता है। मसूढों में हल्की सी
भी परेशानी महसूस होने पर दिन में
दोघ्तीन बार इससे कुल्ला कर लेने से
तकलीफ में काफी हद तक राहत
मिल सकती है।यदि मसूढों और दांतों
पर मैल (टार्टर) जम जाए तो इसकी
तुरंत ही किसी दंत चिकित्सक से सफाई
करवानी चाहिए। इसके लिए आजकल
कई तकनीकें हैं। जैसे साधारण स्केलिंग,
अल्ट्रासाउंड स्केलिंग आदि। इन
तकनीकों से मैल से छुटकारा पाकर
दांतों और मसूढों की मजबूती बढ़
जाती है। अक्सर यह सोचा गया है कि
इससे दांत कमजोर हो जाते हैं। यह
धारणा सरासर गलत है इससे उल्टे
दांतों व मसूढों की उम्र बढ़ जाती है।
टैनिक एसिड युक्त गम पैंट से मालिश
करने से मसूड़े मजबूत होते हैं। पायरिया
के प्रारंभिक चरण में यह लाभदायक
होता है। यदि मसूढों की अच्छी तरह
से देखभाल के बाद भी मसूढों में
बारघ्बार सूजन आती है तो अपने ब्लड
शुगर का चेक करा लेना चाहिए। ब्लड
शुगर बढ़ने पर भी यह तकलीफ हो
सकती है। डायबिटीज के रोगियों को
इस ओर खासतौर पर सावधान रहना
चाहिए।मसूढों में सूजन आने पर और
उनमें खून या पस आने पर किसी भी
प्रकार की असावधानी नहीं बरतनी
चाहिए। ऐसा होने पर दंत चिकित्सक
से इलाज कराने में बिल्कुल भी देर
नहीं करनी चाहिए क्योंकि प्रारंभिक
अवस्था में एंटिबायोटिक, सूजन और
दर्द दूर करने वाली दवा तथा गम पैंट
के इस्तेमाल और स्केलिंग से स्थित
किाबू में आ सकती है। रोग के बढ़ने
पर रूट प्लेनिंग भी करनी पड़ सकती
है। इसमें इंजेक्शन देकर जगह को
सुन्न करने के बाद दांतों की जड़ों की
खुरदरी सतह को समतल बनाया जाता
है और जरूरत पड़ने पर मसूढों और
दांतों के बीच जीवाणुरोधक दवा से
साफ किया जाता है ताकि रोगाणुओं
को खत्म किया जा सके और नीचे से
स्वस्थ ऊतक उग कर मसूढों के स्वास्थ्य
को मजबूती प्रदान कर सकें।

 


Facebook Comments