J-K: 4 जवानों ने रोका था CRPF कैंप पर हमला, शौर्य चक्र की सिफारिश

कश्मीर में तैनाती के दौरान असाधारण साहस दिखाने के लिए सीआरपीएफ की अनुशंसा पर गृह मंत्रालय ने 4 जवानों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया. प्रमोशन पाए जवानों ने 2 अलग- अलग फिदायीन हमलों को नाकाम करते हुए 6 आतंकियों को मार गिराया था.

हवलदार एएस कृष्णा को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन देकर एएसआई बनाया गया. सिपाही दिनेश राजा और प्रफुल्ल कुमार को हवलदार बनाया गया. ये सभी 45 वीं बटालियन से हैं. बता दें कि इन लोगों ने 5 जून 2017 सुंबल (बांदीपोरा जिला) में CRPF कैंप पर हमले को नाकाम किया था. सिपाही रघुनाथ उल्हास जिन्होंने 23वीं बटालियन कैंप, करण नगर (श्रीनगर) पर 11 फरवरी 2018 को हुए हमले को नाकाम किया था. उनको हवलदार बनाया गया है.

कैसे किया सीआरपीएफ कैंप के हमले को नाकाम?

आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिए गए 4 जवानों ने किस तरीके से कश्मीर घाटी में सीआरपीएफ कैंप के हमले को नाकाम किया था. 5 जून 2017 को सुबह तकरीबन 3:30 बजे भारी हथियार और गोला बारूद से लैस आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों को गंभीर क्षति पहुंचाने के लिए हमला करने का प्रयास किया. आतंकी हमलावर चुपके से कैंप में घुसने की कोशिश कर रहे थे. ठीक उसी समय सिपाही जीडी दिनेश राजा व सिपाही जीडी प्रफुल्ल कुमार जोकि मोर्चा एक और मोर्चा दो पर तैनात थे. सामने कुछ संदिग्ध गतिविधियों को नोटिस किया इससे पहले कि वह कुछ समझ पाते उन आतंकियों पर सीआरपीएफ के जांबाजों ने फायर करना शुरू कर दिया.

 आतंकवादियों के विरुद्ध  खोला मोर्चा

सिपाहियों द्वारा किया गया यह बहादुरी का प्रयास आतंकवादियों के लिए काफी भारी पड़ा. आतंकवादी वहां से फायर करते हुए भागने लगे इसी बीच संतरियों ने कैंप का अलार्म सिस्टम बजा दिया. इससे कैंप में उपस्थित सभी जवानों ने भी आतंकवादियों के विरुद्ध मोर्चा खोल दिया. उन्होंने हमले को नाकाम करते हुए चारों आतंकवादियों को मार गिराया. वीरता के लिए सभी CRPF के जांबाज जवानों को CRPF डीजी ने इन सभी जवानों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया. साथ ही उन्होंने इन जवानों को शौर्य चक्र देने की सिफारिश भी की है.

वहीं दूसरी तरफ इसी साल फरवरी के महीने में करीब 4:30 बजे दो आतंकवादियों ने करणनगर CRPF की 23 बटालियन मुख्यालय में हमला करने और घुसने की कोशिश की. वहां पर मौजूद सिपाही रघुनाथ द्वारा आतंकवादियों को चैलेंज किया गया और उन पर फायर करना शुरू कर दिया. जिसके कारण आतंकी वहां से भागकर पास में बन रही इमारत में घुस गए. वहां से फायरिंग करने लगे बाद में CRPF ने ऑपरेशन चलाकर यहां मौजूद दोनों आतंकवादियों को ढेर कर दिया. सिपाही रघुनाथ 23 वीं बटालियन के द्वारा की गई तत्काल कार्रवाई के चलते उनको डीजी CRPF ने आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया. साथ ही शौर्य चक्र केलिए सिफारिश भी की है.