“एड्स–रोग के प्रकोप संग सामाजिक तिरस्कार का दंश“

0 commentsViews:

( कंचन पाठक ) इसे आधुनिक जीवन के खुलेपन का अवदान कहें या रोग द्वारा विज्ञान को पहली बार परास्त करने की दास्तान कि दुनिया भर के डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बाद भी एक बीमारी ऐसी है जिसकी अभी तक कोई औषधि विकसित नहीं हो पाई है lइस रोग का नाम है ”एड्स”l एक ऐसी भयंकर और प्राणघातक बीमारी कि जिसका नाम सुनते हीं हम सब दहशत, उद्वेग, डर, घृणा और घबराहट से भर उठते हैं l दरअसल एच.आई.वी नामक इस बीमारी का वायरस एक बार शरीर में प्रवेश करने के बाद शरीर के प्रतिरक्षक पिंड व्यवस्था को तोड़ना शुरू करता है l जैसे-जैसे प्रतिरोधक क्षमता जीर्ण होती जाती है, वैसे-वैसे शरीर में अनेक प्रकार के संक्रमण उत्पन्न होते जाते हैं l ”एड्स” एच.आई.वी संक्रमण की अंतिम अवस्था है जिसमें रोगी की प्रतिरक्षक पिंड व्यवस्था पूर्णरूपेण ध्वस्त हो जाती है और वह बेहद हीं छोटी, साधारण-सी बीमारी से भी नहीं लड़ पाता, अत्यंत दुर्बल होकर सदैव घोर रूप से थका हुआ महसूस करता है l इस अवस्था में पहुँचने के बाद एच.आई.वी रोगी व्यक्ति तीन-चार वर्ष से अधिक जीवित नहीं रहता l वायरस जनित अन्य बीमारियों और इस बीमारी में एक विशेष फर्क है कि जहाँ अन्य बीमारियाँ कुछ दिनों या कुछेक हफ़्तों में अपने लक्षण प्रकट कर देती है वहीँ एड्स का वायरस बिना किसी प्रत्यक्ष लक्षण के महीनों/वर्षों तक शरीर के अन्दर चुपचाप टी-सेल में छुपा पड़ा रहता है, रोग से अनजान रोगी ऊपर से न केवल पूर्णतया स्वस्थ दिखता है, बल्कि वह स्वस्थ महसूस भी करता है l इसके विषाणु आठ से नौ वर्ष में विकसित होते हैं, जबकि इस अवधि के दौरान संक्रमित व्यक्ति बीमारी के वायरस को न जाने कितने लोगों में हस्तांतरित कर उन्हें भी संक्रमित कर चुका होता है l इसके वायरस के द्रुत गति से फैलने और रोग के महामारी का स्वरुप धरने के पीछे भी यही कारण है lइलाज शुरू होने से पहले हीं देर हो चुकी होती है जबकि वक़्त रहते इलाज़ शुरू कर देने से रोग की उग्रता को काफी हद तक काबू में रखा जा सकता है l एक रिसर्च के मुताबिक भारत में 2.1 मिलियन लोग एच.आई.वी से प्रभावित हैं (२०१५) तथा दक्षिण अफीका और नाईजीरिया के बाद भारत दुनिया का सबसे बड़ा एड्स प्रभावित देश है l
यह मानवीय स्वभाव है कि आम तौर पर किसी भी बीमार व्यक्ति को सहानुभूति से देखा जाता है पर इस बीमारी के साथ यह दुर्भाग्य जुड़ा हुआ है कि इसके मरीज़ को न केवल सामाजिक रूप से तिरस्कार व बहिष्कार का सामना करना पड़ता है बल्कि इनके अपने सगे-सम्बन्धी भी इन्हें घृणा से देखते हैं, और इनसे छुटकारा पाने की फ़िराक में रहते हैं lया यूँ कहें कि हमारे यहाँ किसी भी अन्य बीमारी के मरीज़ को इतनी घृणा से नहीं देखा जाता जितना एड्स के मरीज़ को l इसकी वजह यह है कि एड्स के ट्रांसमिशन का मुख्य जरिया या कारक वेश्याएं, अनेक लोगों से यौन सम्बन्ध रखने वाली औरतें, समलैंगिक पुरुष, आदि होते हैं l अतः यह स्वतः हीं मान लिया जाता है कि एड्स के विषाणु से पीड़ित व्यक्ति ऐसे किसी कारक के संपर्क में अवश्य आया होगा l हम भारतीय चारित्रिक स्वच्छता को सर्वोपरि मानते हैं और अवैध या अनैतिक यौनव्यवहार को हमारे समाज में हमेशा से कलंकित, तिरस्कृत और बहिष्कृत किया जाता रहा है यहाँ तक कि इस पर बात करना भी बेशर्मी मानी जाती है l जबकि देखा जाए तो सेक्स को अश्लील एवं वर्जनीय विषय मानकर ढांककर परे रखने से उपजी अज्ञानता या अल्पज्ञता एड्स जैसी बीमारियों को बढ़ाने का हीं काम करती हैं lकई बार जानकारी और जागरूकता के अभाव तथा व्यवस्थाओं की लापरवाही से सही यौन आचरण के लोग भी एड्स के वायरस की चपेट में आ जाते हैं जैसे- एड्स रोगियों की पत्नियाँ और उनसे उत्पन्न निर्दोष बच्चे, संक्रमित सुई, संक्रमित रक्त, दंतचिकित्सा के उपकरणों, नाई के उपकरणों, कान नाक छेदन के उपकरणों आदि से संक्रमित होने वाले लोग l किन्तु ”एड्स” शब्द सुनने के बाद हम सही या गलत कुछ भी सुनना समझना नहीं चाहते और रोगी व्यक्ति से सहज मानवीय सहानुभूति रखना तो दूर रही उन्हें उनके मूल अधिकारों तक से वंचित कर देते हैं lकिन्तु एक रोगी व्यक्ति जो पहले हीं काफी तकलीफ में है के साथ निर्दयता का ऐसा आचरण अमानवीय तो है हीं, साथ हीं सार्वभौमिक मानवाधिकार इसकी इजाज़त भी नहीं देता l
एच.आई.वी/एड्स पीड़ितों के हितार्थ भारत में कुछ कानून लागू किए गए हैं जिसके बाद यह उम्मीद की जानी चाहिए कि उनकी जिन्दगी अब पहले के मुकाबले आसान हो जाएगी l भारत सरकार ने एड्स पर काबू पाने और एड्स पीड़ितों के साथ दुर्व्यवहार को रोकने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार की भांति राष्ट्रीय अभियोग निर्मित किया है जो भारत में राष्ट्रीय एड्स नीति को लागू करती है l एड्स पीड़ितों को नौकरी से निकालने, स्कूल से निकालने, अस्पताल में ईलाज से इनकार करने, अचल संपत्ति को किराए पर लेने देने या वहाँ निवास करने, सार्वजानिक या निजी कार्यालय, बीमा एवम सार्वजनिक सुविधाओं समेत तमाम भेदभावों पर इस नीति के तहत कार्य किया जा सकेगा lएच.आई.वी/एड्स (रोकथाम और नियन्त्रण) विधेयक २१ मार्च २०१७ को राज्यसभा में पास होने तथा ११ अप्रैल २०१७ को लोकसभा में पारित होने के बाद एड्स रोगियों के साथ किसी भी प्रकार का भेदभाव अब दण्डनीय अपराध होगा l
यह विधेयक एच.आई.वी/एड्स पीड़ितों को निम्नलिखित सहूलियतें प्रदान करता है
१) मुफ्त इलाज़ – एड्स विधेयक के अनुसार प्रत्येक एच.आई.वी संक्रमित/एड्स रोगी को अब केंद्र/राज्य सरकार के संरक्षण में रोग की निःशुल्क जाँच, उपचार और परामर्श पाने का अधिकार है, उनके उपचार हेतु सभी सरकारी अस्पतालों में एन्टी रेट्रोवायरल थेरेपी की मुफ्त व्यवस्था की गई है l
२) गोपनीयता का अधिकार – जब तक आवश्यक न हो एड्स रोगियों की पहचान गुप्त रखना उनका मानवाधिकार है l किसी एच.आई.वी पॉजिटिव को उसकी स्थिति का खुलासा करने की आवश्यकता तभी पड़ेगी जब न्यायलय का आदेश हो l
* एच.आई.वी संक्रमित व्यक्तियों की गोपनीयता का उल्लंघन करने पर दो साल के कैद की सज़ा तथा एक लाख तक का जुर्माना हो सकता है l
३) रोजगार का अधिकार – हमारे समाज में एच.आई.वी/एड्स पीड़ित की बीमारी की बात खुलते हीं संस्थानों द्वारा उसे सीधे या कोई बहाना करके नौकरी से निकाल दिया जाता है l किन्तु अब एच.आई.वी स्तर के कारण किसी को बर्खास्त करना तबतक गैरकानूनी है जबतक वह कार्य के लिए चिकित्सकीय रूप से अनुपयुक्त न हो या अन्य कर्मियों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त जोखिम न हो l
* भारत में एच.आई.वी संक्रमण से मर गए राज्य कर्मचारियों के उत्तराधिकारियों को अनुकम्पा पर रोजगार दिया जाता है ताकि उसके आजीविका अर्जन के अधिकार की संविधान के अनुछेद २१ के अन्तर्गत सुरक्षा हो सके l
४) सम्पदा में अधिकार – १८ साल से कम उम्र के सभी एच.आई.वी पॉजिटिव को अपने परिवार में रहने तथा साझा सुविधाओं का प्रयोग करने का अधिकार है l
५) भेदभाव मुक्त व्यवहार – एच.आई.वी पीड़ित अब सभी सार्वजनिक जगहों जैसे होटल, रेस्तरा, दुकानों, मनोरंजन स्थल आदि पर बिना किसी भेदभाव के जाने के हक़दार हैं l
६) निजता का अधिकार – एच.आई.वी पॉजिटिव वैधानिक रूप से निजता के मान्य क्षेत्र में आता है l
ये तो हुई एड्स रोगियों के प्रति मानवीय उदारता और उनके हक़ की बात पर इस खतरनाक रोग पर काबू पाना भी सरकार की प्राथमिक योजनाओं में अग्रणी होना चाहिए l नैको के आंकड़ों के मुताबिक एड्स के एक मरीज़ के प्राथमिक उपचार से सेकेण्ड लाइन ट्रीटमेंट तक ६५०० से २८५०० का खर्च आता है, और भारत में 2.1 मिलियन लोग एच.आई.वी से प्रभावित हैं (२०१५ के आंकड़े) इस हिसाब से अगर जल्द काबू न पाया गया तो भारत जैसे गरीब देश के लिए भविष्य में यह महामारी बर्बादी का हीं पर्याय सिद्ध होगी lफिलहाल तो एच.आई.वी/एड्स जो मानव इतिहास की सबसे भयंकर महामारियों में से एक है के लिए हम सभी को जागरूकता बढ़ाने, पूर्वाग्रह घटाने तथा देश से इस रोग के उन्मूलन के लिए दृढ निश्चय बनाने की बेहद ज़रुरत है l

– कंचन पाठक
लेखिका, स्तंभकार
(स्नातकोत्तर) कानून तथा प्राणीविज्ञान

 


Facebook Comments