नजीब के अभीतक न मिलने पर CBI मुख्यालय पर प्रदर्शन

आज 300 के करीब दिन हो गए हैं नजीब को ग़ायब हुए। उस माँ क्या हाल होगा जिसकी आँखों का लाल इतने दिन से ग़ायब हो। हर घड़ी हर लम्हा एक ही आस एक ही उम्मीद कब कहाँ से किसी तरह बेटे की कोई ख़बर मिले। वो माँ हर सुबह मरती है हर शाम मरती है या यूँ कहूँ की हर लम्हा मरती है।
वहाँ दूसरी तरफ़ CBI 100 दिन बाद भी नजीब के बारे में कोई भी सुराग़ पता लगाने में नाकामयाब रही है। यह CBI का ढीला रवैया किसी ना किसी दवाब की वजह से है। इस के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के लिये आज CBI मुख्यालय प्रदर्शन हुुुआ ।

  • खालिद सैफी

#UnitedAgainstHate