खान-पान का रखें विशेष ध्यान

0 commentsViews:

16 September to 30 Sept

आज के इस बदलते परिवेश में
जहां हर महिला, पुरुषों से कंधे से
कंधा मिलाकर चल रही हैं। वहीं दूसरी
ओर इस वजह से वह कई बीमारियों
के चपेट में भी लगातार आती जा रही
है। आज हर महिला और पुरूष को
जीवन ज्यादातर दतर में ही बीतता
है। शायद यही कारण है कि दतर का
व्यस्त शेडयूल, शिट डयूटी और काम
का बहुत ज्यादा दबाव आपके मानसिक
स्वास्थ्य के साथ-साथ शारीरिक
स्वास्थ्य पर भी बुरा असर डालता है।
ऐसे में दतर के दौरान खान-पान का
सही ख्याल आपको स्वस्थ रखने में
मदद कर सकता है,आइए जानते हैं
दतर में क्या खाएं और क्या ना खांए।
कैसा हो आहार: दफ्तर में
आपकी प्राथमिकता काम है न की
आपका आहार, इसलिए आपका आहार
ऐसा होना चाहिए, जो आपको ताकत
दे, न कि ऐसा, जिसे खाकर आपको
नींद आए। दतर में लंच के दौरान
अपनी प्लेट को न भरें। सही मात्रा में
संपूर्ण आहार लें। साथ ही दतर में
लंच कभी भी छोड़ें नहीं।ऐसा करने से
आपका ध्यान काम पर नहीं, बल्कि
खाने पर ही लगा रहेगा।
अपने आहार में इन बातों का ध्
यान रखेंः
भोजन के साथ सलाद जरूर लें
ः शरीर में ऑक्सीजन की कमी की
समस्या से बचने के लिए भोजन में
ज्यादा से ज्यादा सलाद का प्रयोग
करें। सलाद और अंकुरित अनाज हल्का
आहार होता है, जिसका सेवन आपको
नींद से दूर रखता है और दतर में
काम के दौरान आपको सक्रिय भी
रखता है। शरीर की रोग प्रतिरोधक
क्षमता बढ़ाती है दहीः दही के रोजाना
सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक
क्षमता बढ़ती है। दही के बैक्टीरिया
तथा पोषक तत्व शरीर के लिए
एंटीबायोटिक का कार्य करते हैं और
रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता भी बढ़ाते
हैं। इससे आप बीमारियों से दूर रहते
हैं। ताजे फल रखेंगे आपको तराताजाः
ताजे फल न केवल आपको तरोताजा
रखते हैं, बल्कि आपकी सेहत को फिट
भी रखते हैं। ताजे फलों का सेवन
आपके दिन को बेहतर बनाता है।
दतर में छोटे से ब्रेक के दौरान एक
फल का सेवन आपको स्वस्थ रखता है
और काम को ऊर्जा से भर देता है।
रात के वक्त बिना मिर्च-मसाले के
आहार का सेवन करें, इससे अल्सर,
कब्ज, एसीडिटी जैसी समस्याओं से
दूर रहेंगे। नाइट शिट के दौरान
एल्कोहल और सिगरेट का सेवन न
करें। रात में काम के दौरान खुद को
रिलेक्स करने के लिए संगीत सुनें
और मेडीटेशन करें।
नियंत्रित रखती है ग्रीन टी:
इसके सेवन से कई बीमारियों पर
नियंत्रण किया जा सकता है। इससे
रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।
ग्रीन टी में एमीनो एसिड होता है, जो
एंग्जाइटी और स्ट्रेस से छुटकारा दिलाने
में सहायक होता है। दफ्तर में जब भी
मौका मिले ग्रीन टी जरूर पिएं।
कार्बोहाइड्रेट कम फाइबर ज्यादा:
फाइबरयुक्त आहार जैसे साबुत अनाज
ब्रेन न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोटिन के उत्पाद
को बढ़ाता है, जो आपके
सोचने-समझ्ाने की शव्ति को बढ़ाता
है और तनाव को कम करने में मदद
करता है। हरी, पीली और नारंगी रंग
की सब्जियों में मिनरल्स, विटामिंस
और फाइटोकैमिकल्स होते हैं, जो इम्यून
सिस्टम को मजबूत बनाते हैं। जबकि
कार्बोहाइड्रेट के सेवन से आपको नींद
आती है, इसलिए दतर में ज्यादा
रोटी और चावल का सेवन न करें।
स्मोकिंग आपके स्वास्थ्य और काम,
दोनों पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है,
इसलिए काम के दौरान स्मोकिंग से
बचने के लिए मुंह में इलायची या
सौंफ रखें। इससे आपकी स्मोकिंग भी
कम होगी और ये चीजें आपको नुकसान
भी नहीं देंगी। दिन भर में जितना हो
सके उतना पानी पिएं, क्योंकि आप
अंदर से हाइड्रेट रहेंगे तो ताजगी भरा
महसूस करेंगे और आपको तनाव के
कारण सिरदर्द जैसी परेशानियां भी
नहीं होंगी। भरपूर मात्रा में पानी पीने
से आपका सिस्टम साफ रहता है और
आप तनाव से कोसों दूर रहते हैं। नींबू
पानी, नारियल पानी और ताजे फलों
के रस का भी सेवन कर सकते हैं।

 


Facebook Comments