येस बैंक के ग्राहकों की समस्याएं निपटाने पर वित्त मंत्रालय स्वयं नजर रख रहा

येस बैंक संकट से निबटने में आरबीआई और वित्त मंत्रालय और हमारी जाँच एजेंसियों ने बहुत तेजी दिखाई वरना लोगों में देश के बैंकिंग तंत्र के प्रति अविश्वास बढ़ता। येस बैंक के... Read more »

रंग – इन्दिरा कुमारी

आओ सखी तुझे रंग लगा दूं स्नेह घोल तुझे भंग पिला दूं। इस रंग की महिमा अजब है प्रकृति में संगम गज़ब है इससे अब परिचित करा दूं आओ सखी तुझे रंग लगा दूं स्नेह घोल अब भंग... Read more »

तस्मै श्री गुरवे नमः – दीपक अनंत राव “अंशुमान”

                            मनुष्य की पहचान उनकी सांस्कृतिक घरातल पर၊कुच्छ करना,करके दिखाना उस परआदमी का ध्येय भी रहता है၊नामोनिशान करके,समाज के दिल कोजो जीता है,वह महान कहलाता हैं၊शिला युग… Read more »

गुरुदेव – सूर्य प्रकाश उपाध्याय

हे यतिवर शत्-शत् प्रणाम! काषाय वस्त्र त्रिदण्ड धरे, यज्ञोपवित शोभित कृशतन। कर वाम कमण्डल राजत है, अमृत बिखेरता कमल नयन। बैठे रसाल तरु के तल में, पर्णशाल पुष्प दल से मण्डित। सब वेद, शास्र,उपनिषद तापसे,... Read more »

गुरू – डॉ अमित कुमार दीक्षित

उप विषय – दीप से दीप जले ‘दीप से दीप’ जले गुरूदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की एक लोक प्रसिद्ध उक्ति है । गुरूदेव ने शिक्षकों के संदर्भ इस उक्ति का प्रयोग किया था ।... Read more »

गुरु – इन्दिरा कुमारी

कर गुरु प्रणाम शिक्षक दिवस पर सर हम झुकाऐं गुरु बड़े गोविन्द से बारंबार दुहराऐं। श्री राधाकृष्णन जन्मदिवस पर शिक्षक दिवस मनाऐं पाँच सितम्बर है शुभ अवसर सुन्दर सुयश बनाऐं। कर्मभूमि पर... Read more »

शिक्षक – किरण बाला

पूछूं गर मैं एक सवाल कौन हूँ मैं, क्या है मेरी पहचान? खो चुका हूँ अपना अस्तित्व भूल चुका हूँ अपना नाम क्या हूँ मैं कोई कठपुतली? या फिर हूँ मैं कोई फिरकी किसी खेल का हूँ मैं... Read more »

गुरू महिमा – अनन्तराम चौबे अनन्त

गुरू की महिमा बचपन से देखी है । पहली गुरू माँ होती है । गुरू का ज्ञान जो देती है ।   किताबों में जो नही होता है गुरू ज्ञान माँ सबको देती है  जीवन भर इसी ज्ञान से सबको… Read more »

गुरु – देवेन्द्र प्रसाद

जीवन सार बहुत कठिन है साक्षात्कार अद्भूत ज्ञान सब नही पाते ये अनुमान कठिन डगर सभंलो हर पल आसान सफर ज्योति अनेक सद्गुरु से मिलता अनंत विवेक अन्धकार बिना गुरु अब जीवन बेकार प्रखर मन गुरु वाणी से दृढ़ बन… Read more »

गुरु, अध्यापक – डॉ.बी.निर्मला

अज्ञान से ज्ञान,अंधेरे से प्रकाश, अशिक्षित से शिक्षित,अबोध से बोध,अवगुण से गुणवान,कुमार्ग से सुमार्ग,असभ्य से सभ्य, बुधिहीन से बुद्धिमान,असंभव से संभव,पाप से पुण्य,असत्य से सत्य की राह ले जानेवाला गुरु है। किसी के लिए... Read more »