क्या आजादी के मायने बदल गये हैं?

neera

 ( डॉ. नीरज भारद्वाज ) आजादी शब्द सुनते ही मानव मस्तिष्क में एक ताजगी सी भर जाती है। आजादी शब्द ही अपने आप में एक  व्यापक और शक्ति भरा हुआ शब्द है। आजादी सभी को प्यारी है चाहे मानव हो या कोई जीव-जन्तु अर्थात् पशु-पक्षी। आजादी स्वयं कुछ  करने की और बिना किसी रोकटोक के जीवन जीने का नाम है। हमारे जीवन में किस्से कहानियों से भी आजादी की बातें स्पष्ट हो जाती है।  एक लघु कहानी से आजादी के मायने और विचार हमारे सामने स्पष्ट हो जाते हैं। ऐसी ही एक कहानी है कि एक राजा ने बोलते तोते को  सोने के पिंजरे में बंद कर दिया और उसे खानें में अच्छे-अच्छे व्यंजन दिए। लेकिन कुछ दिन बाद तोता मर गया। मंत्री ने राजा को तोते की  मृत्यु का कारण उसकी आजादी छीन लेना बताया। राजा को अपने किए पर पछतावा हुआ। उस घटना के बाद राजा का हृदय परिवर्तन हुआ  और वह रोजाना सुबह-सुबह जंगल में जाता तथा पक्षियों को दाना-पानी देता, उनको चहचाहते हुए सुनता, पहले पक्षी उससे दूर रहते थे।  लेकिन धीरे-धीरे पक्षी राजा के समीप बैठने लगे और कुछ दिन बाद तो पक्षी कभी राजा के सिर पर बैठ जाते तो कभी उनके कंधे और  भुजाओं पर। राजा को अब लगने लगा कि यह है आत्मिक सुख और किसी के साथ रहकर उनके विचारों को जानने तथा समझने का सही  तरीका। वास्तव में आजादी स्वयं में जीने की कला है।

जब हम अपने देश भारतवर्ष की बात करते हैं, तो इसके साथ भी आजादी शब्द जुडा हुआ है। हमारा देश 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की दासता से आजाद हुआ। अंग्रेजों द्वारा कितने ही अत्याचार हमारी उस पीढी के लोगों ने सहे हैं जिनकों हमने केवल किस्से कहानियों में देखा और सुना है। उनके हौंसले और आजादी के लिए किये गये कार्य जब हम पढते और सुनते हैं तो, हमारे अंदर आज भी एक जोश पैदा कर देते हैं। उनका त्याग और बलिदान हमारे लिये प्रेरणा का स्रोत हैं।

देश को आजाद हुए आज आधी शताब्दी से भी अधिक समय हो गया है और देश कहाँ से कहाँ पहुँच गया है। आधुनिक से अत्याधुनिकता के इस दौर में ऐसा लगता है मानों बहुत सारी बातें शायद पीछे रह गयी है। आधुनिक मानव की जो विचारधारा में परिवर्तन हुआ है, वह वास्तव में हमारे लिए सोचने की बात है। आज लोगों की सोच में आजादी के मायने ही शायद बदल गये है। जो जहाँ पद पर बैठा हैं वह अपने को बडा ताकतवर समझने लगा है। नियम कानून बदलनें में देर नहीं लगाता है और अपने हित के लिए तथा पैसा कमाने के लिए कुछ भी करने कराने के लिए तैयार रहता है।

हमारे स्वतंत्रता सैनानियों ने आजाद देश में देश के विकास की सोची थी। लेकिन वर्तमान तक आते-आते अपने-अपने विकास की सोची जाने लगी। देश हित बाद में पहले अपना हित होना चाहिए। एक तरफ तो देश को आजाद कराने वाले वो लोग थे, जो दिन-रात सोते नहीं थे, खाना तक ठीक से खाते नहीं थे, घर-परिवार से कितने ही दूर, हर समय अपने ठिकाने बदलते रहते थे, कब पकडे जाये और जेल हो जाये या गोली लग जाये कुछ पता नहीं था। लेकिन एक लगन थी देश आजाद होना चाहिए।

आज परिस्थितियाँ इसके विपरित दिखाई देती है। हम अपने ही राजनेताओं की हाथ की कठपुतलियाँ बन चुके हैं। धर्म, जाति, लिंग, वर्ग, भाषा, स्थान आदि के नाम पर लड रहे हैं। देश के विकास का पैसा जो संसद से पास होता है। जाकर विदेशी बैंकों में जमा हो जाता है। भूखी मरती जनता और असुविधाओं से भरा देश अपंग सा खडा दिखाई देता है। रोज नए राजनैतिक दल बन रहे हैं। करोडों अरबों के घोटाले राजनेताओं के लिए एक साधारण सी बात लगने लगी है। विकास के नाम पर केवल लोगों को ठगा जा रहा है। हम अपने ही लोगों के साथ अत्याचार और उनके हिस्से का खा रहे हैं। समाज में उथल-पूथल मची हुई है। हत्या, बलात्कार, चोरी, लूट आदि की घटानयें साधारण सी लगने लगी है। समाचारपत्र और टेलीविजन खून से लथपथ दिखाई देते हैं। कहीं सूखा तो कहीं बाढ से लोग मर रहे हैं। कहीं विद्यालय नहीं है तो कहीं उनमें सुविधाओं की कमियाँ है, कहीं चिकित्साल्यों की कमी, कहीं नदियों के किनारे नहीं है, कहीं उन पर पुल नहीं बने हुए हैं। केवल देश चल रहा है।

आजादी के इतने वर्षो बाद भी समझें में नहीं आता कि देश में सत्ता परिवर्तन और व्यवस्था परिवर्तन को लेकर आंदोलन क्यों हो रहे हैं। क्या लोगों में देशभक्ति या देशसेवा का भाव मिट चुका है। क्या सभी अपने लिए ही जीने की सोच रहे हैं। यदि यही सभी कुछ होना था तो फिर शहादत देने की क्या जरुरत थी। कम से कम हम ये तो कह देते हम अभी आजाद नहीं है। इस स्वतंत्रता दिवस हमें यह कसम उठानी होगी कि हम देश हित में कार्य करेगें और हर काम पूरी निष्ठा और ईमानदारी से करेगें। दोस्तो बूंद-बूंद से सागर बनता है।