मैं जितना सुलझाती हूँ

archna

मैं जितना सुलझाती हूँ

वो उतना ही और उलझा देता है

सुनो

ऐसा करो तुम कुछ मत करो

मैं खुद ही तुम्हें सुलझा दूंगी

न सुलझा पायी तो जो उलझा रहे हैं

उन को सुलझा दूंगी

मकसद साफ़ है

सिर्फ तुम्हें सुलझा हुआ सादा साफ़ नजरिया देना

के तुम देख पाओ जिस्मों के पार रूहों का मिलाप

Archna Sood