भगोरिया पर्व _लोक संस्कृति

0 commentsViews:

आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रो मे भगोरिया पर्व आते ही वासन्तिक छटा मन को मोह लेती है वही इस पर्व हेतु पूर्व से रियाज करने से ढोल ,बांसुरी की धुनों की मिठास कानों मे मिश्री घोल देती है व दिलों मे उमंगो की कशिश पैदा करती है |व्यापारी अपने-अपने तरीके से खाने की चीजे गुड की जलेबी ,भजिये, खारिये (सेव ) पान ,कुल्फी ,केले ,ताड़ी बेचते ,एवम झूले वाले ,गोदना वाले इंतजाम करने मे जुट जाते है| जिप,छोटे ट्रक ,दुपहिया वाहन व् ,बेलगाडी पर दूरस्थ गाँव के रहने वाले समीप भरे जाने वाले हाट-बाजारों मे सज-धज के जाते है |कई नोजवान युवक-युवतिया झुंड बनाकर पैदल भी जाते है |ताड़ी के पेड़ पर लटकी मटकिOLYMPUS DIGITAL CAMERAया जिस मे ताड़ी एकत्रित की जाती है बेहद खुबसूरत नजर आती है |खजूर ,आम आदि के हरे भरे एवम सुर्ख टेसू के फूलों से लदे पेड़ ऐसे लगते है मानों ये भगोरिया मे जाने वालो का अभिवादन कर रहे हो और प्रेम यहाँ प्रस्फुटित होकर संग चलने लगा हो |वेसे बड़े-बूढ़े सभी इस पर्व का आनद लेते है |

भगोरिया हाट मे प्रशासन व्यवस्था भी रहती है | हाट मे जगह – जगह भगोरिया नृत्य मे ढोल की थाप से धुन – “धिचांग पोई पोई..” जेसी सुनाई देती और बांसुरी ,घुंघरुओं की ध्वनिया दृश्य मे एक चुम्बकीय माहोल पैदा करती है | बड़ा ढोल विशेष रूप से तेयार किया जाता है जिसमे एक तरफ आटा लगाया जाता है |ढोल वजन मे काफी भारी होता है । जिसे बजाने की कला में महारत हासिल हो वो नृत्य घेरे के मध्य मे खड़ा हो कर इसे बजाता है | एक रंग की वेश भूषा ,चांदी के नख से शिख तक पहने जाने वाले आभूषण ,घुंघरू पावों मे हाथों मे रंगीन रुमाल लिए गोल घेरा बनाकर बेहद सुन्दर नृत्य करते है |कई जगहों पर ताड़ी की बिक्री होती है जो की स्वास्थ्य वर्धक पेय है किन्तु पेसो की लालच मे मिलावट कर बेचीं जाने लगी है |युवक -युवतिया झूलो पर ,नृत्यों से ,पोशाको से ,पान खिलाकर एक दुसरे के प्रति आकर्षण पैदा कर, पसंद करते है । वर्तमान में पूर्व से चली आ रही भगाकर ले जाने वाली प्रथा कम हुई है । गालो पर गुलाल लगाकर ,पान खिलाकर,वर्तमान मे मोबाईल की फरमाइश की जा कर भी अपनी पसंदगी को चयन मे जोड़ते है |प्रेम, प्रकृति ,संस्कृति,उमंग उत्साह से भरा नृत्य का मिश्रण भगोरिया की गरिमा मे वासन्तिक छटा का ऐसा रंग भरता है की देश ही नहीं अपितु विदेशों से भी इस पर्व को देखने विदेशी लोग आते है । विशेषकर धार /झाबुआ /अलीराजपुर आदि जिलो के लोक उत्सव भगोरिया प्रसिद्ध है । विदेशी पर्यटकों के लिए रहने और ठहरने के लिए प्रशासन द्वारा केम्प की व्यवस्था की जाने लगी है
लोक संस्कृति के पारम्परिक गीतों को डीजे साउंड पर बजाया जाकर माहोल मे एक जोश का वातावरण भरा जाने लगा है|
प्रकृति और संस्कृति का अदभुत संगम हरे -भरे पेड़ो से निखर जाता है किन्तु जंगलो के कम होने से व गांवों के विस्तृत होने से कई क्षेत्रो मे कम्पौंड के अन्दर ही नृत्य करवाया जाकर भगोरिया पर्व मनाया जाने लगा है जो की एक बंधेपन जेसा प्रतीत होता है और युवतियों की संख्या भी कम होती है |  |भगोरिया पर्व पर उपयुक्त स्थान मे ज्यादा से ज्यादा संख्या मे खाने पीने की चीजो की दुकान लगाना ,छाँव एवम साफसुथरे मैदान की बेहतर व्यवस्था ,पीने के पानी की सुविधा,झूले आदि की अनिवार्यता होनी चाहिए ताकि लोक संस्कृति का आनंद सभी ले सके |

संजय वर्मा “दृष्टि ”

125 ,शहीद भगत सिंग मार्ग

मनावर जिला-धार (म प्र )

454446

 


Facebook Comments