पाक के नीयत कितने पाक़ हैं

0 commentsViews:

320887_119611381572299_1138974827_n

सबरजीत के शव से
किडनी और दिल नहीं मिला
पाक के नीयत कितने पाक़ हैं
दिल
दिल जहाँ रह गया
वहीँ आत्मा भी तो रह गई
दिल तक वे संवेदनाएं पहुँच जाती
वो मिटटी बन कर आया
लेकिन वतन की मिट्टी को चूम न सका
जिनकी वज़ह से
 वे आज उसकी बहन – बेटी के
आंसू पोछ रहा और गले मिल रहा है
उसकी बहन उन्हीं लोगों के
सियासी दांव-पेंच को
मजबूत करने की
गुहार लगा रही है
बेटियों को नौकरी देने की दरकार है क्यूँ कि चलानी तो सरकार है
दिल मजबूर कर देता आत्मा को दुआएं देने के लिए
शायद
शायद नहीं
यकीनन
एक पाक़ हिन्द दिल से
एक पाक दिल पाक़ हो जाये
पाक के नीयत कितने पाक़ हैं …

Facebook Comments