दीपावली – रौशनी का उत्सव

0 commentsViews:

untitled

त्यौहार और उत्सव हमारे जीवन में हर्षोल्लास और सुख लेकर आते हैं ।भारतीय संस्कृति उल्लास की संस्कृति है जिसमें त्यौहारों का विशेष स्थान है। सभी पर्व या तो पौराणिक पृष्ठभूमि से जुड़े हैं या प्रकृति से! इनका वैज्ञानिक पहलू भी नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता!
दीवाली न सिर्फ एक त्यौहार है बल्कि ये पांच त्यौहारों की एक श्रृंखला है जो कि न सिर्फ पौराणिक कथाओं से जुड़े हैं बल्कि सामाजिक एवं पर्यावरण की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हैं।इन पाँच दिनों में धन-धान्य,आरोग्य,सुख-शान्ति और रिश्तों सहित जीवन की तमाम कामनाएं आलौकित होती हैं । वास्तव में त्यौहारों का अंतिम अभिप्राय आनन्द और किसी आस्था का संरक्षण ही होता है। दिवाली का त्यौहार सत्य पर असत्य की विजय का प्रतीक है। अंधेरे पर उजाले के आगमन का संदेश है।
पांच दिवसीय इस त्यौहार के लिए हफ़्तों पहले से तैयारियाँ शुरु हो जाती हैं ।साफ-सफाई करते हैं, घर सजाते हैं ।इसका वैज्ञानिक महत्व है।बारिश के बाद सब जगह सीलन होती है फंगस और कीटाणु होते हैं जो कि बीमारियों का कारण बनते हैं ।इसलिए साफ-सफाई करके स्वास्थ्य सुरक्षा की जाती है।
इसके बाद घर को सजाते हैं जिससे सुन्दरता के साथ-साथ सकारात्मक ऊर्जा का भी संचरण होता है।फिर आती है नये कपड़ों और ज़ेवर,बरतन की खरीद! सजे संवरे घर में सब कुछ नया-नया हो तो नई उमंग और उत्साह से भर जाते हैं ।सर्दियां भी बस शुरू होने को ही होती हैं तो इस दृष्टि से खान-पान का विशेष ध्यान रखते हुए पकवान बनाए जाते हैं। इतना सब करें और मेहमानों का आना-जाना न हो !!!इसलिये अब एक-दूसरे को बधाई देते हैं, बहन बेटियों को बुलाते हैं और मिलजुल कर त्यौहार मनाते हैं ।
तो इस तरह दीवाली का ये त्यौहार न केवल पौराणिक मह्त्व का है बल्कि सामाजिक,स्वास्थ्य और पर्यावरण की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। इसके अलावा समाज के लगभग हर वर्ग के लिए महत्व का है। मिट्टी के दीपक, मिठाइयां, ज़ेवर-कपड़े, फल-सब्जी, मोमबत्तियों की और बिजली की रोशनी आतिशबाज़ी आदि बहुत सी चीज़े समाज के विभिन्न वर्गो को रोज़गार के अतिरिक्त अवसर प्रदान करती हैं। इस संदर्भ में ये कहना अति आवश्यक है कि हम इस त्यौहार पर जो भी खरीदारी करें उससे किसी न किसी स्थानीय व्यक्ति को दिवाली मनाने का मौका अवश्य मिले। जैसे कुम्हार, मोमबत्तियों का छोटा व्यवसायी फल-सब्जियों के छोटे विक्रेता, पटाखों इत्यादि के छोटे व्यापारी आदि। क्योंकि उनके लिए ये अवसर साल भर में एक बार आता है और पूरे परिवार की अनेकोंनेक मूलभूत आवश्यकताओं के लिए यही त्यौहारी मौका उम्मीद की किरण होता है।
अब क्रमवार इन त्यौहारों की बात करें —
1—धन-तेरस— कार्तिक मास की त्रयोदशी के दिन मनाया जाने वाले इस त्यौहार में आरोग्य के देवता धन्तवरी की आराधना की जाती है।साथ ही नये बरतन,आभूषण आदि की खरीद भी की जाती है। स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन है। इसलिये शुरुआत तन-मन के उचित देखभाल व रख-रखाव के पर्व से होती है
2—रूप-चौदस/यम-चतुर्दशी—महिलाएँ अब तक साफ-सफाई और खरीददारी,रसोई में ही व्यस्त रही होती हैं ।तो आज का त्यौहार उनके सजने संवरने का है।जब स्वयं अच्छा महसूस करते हैं तो अच्छे काम कर पाते हैं और माहौल भी अच्छा रख पाते हैं।मन व आत्मा के स्वरूप को निखारने का ये अद्भुत त्यौहार है। साथ ही परिवार की सुरक्षा एवं  खुशहाली के लिए यम के लिए बाहर देहरी पर एक दीपक जलाते हैं ।इस भावना के साथ कि वो बाहर से ही लौट जाएं ।
3—दिवाली—तीसरा दिन मुख्य दिवाली का त्यौहार है जिसे न केवल भारत बल्कि दुनियां भर में बसे भारतीय भी मनाते हैं। इस दिन देवी लक्ष्मी एवं गणपति की पूजा की जाती है।दीपकों से घर-आंगन के साथ-साथ मंदिर और चौराहों जैसी सार्वजनिक जगहों को भी रोशन करते हैं। विभिन्न धर्मों में विविध कारणों से दिवाली मनाते हैं जैसे
१-श्रीराम के चौदह वर्ष के वनवास की समाप्ति पर अयोध्या आगमन की खुशी में
२-धर्मराज युधिष्ठिर के राजसूर्य यज्ञ की समाप्ति की खुशी में
३-आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानन्द सरस्वती का निर्वाण दिवस
४-जैनियों के चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस
ये कुछ उदाहरण मात्र हैं ।
4—अन्नकूट—चौथे दिन शीत ऋतु से जुड़े विभिन्‍न फल-सब्जियों के खाद्यान्नों से इष्ट देव को भोग लगाकर सामूहिक भोजों का आयोजन किया जाता है और गोवर्धन पूजा भी की जाती है। “जैसा खाए अन्न वैसा होए मन” इस बात को ध्यान में रखते हुए ऋतुनुकूल भोजन करने का संदेश ये त्यौहार देता है ताकि शीत ऋतु में भरपूर स्वास्थ्य लाभ लिया जा सके।
५—भाई-दूज—शुक्ला द्वितिया के दिन इस घर में भाई-बहन के प्रेम को सुदृढ़ करता भाई दूज का त्यौहार मनाया जाता है। सच्चे रिश्तों में प्यार, तकरार और तर्क-वितर्क के साथ-साथ फैसले का सम्मान और विश्वास भी होता है । इन्हीं परस्पर प्रेम के रिश्तों को सहेजता है ये भाई-दूज का पर्व ।

इस तरह दीवाली का ये पांच-दिवसीय त्यौहार सम्पूर्ण होता है।

देहरी पर उम्मीद का  दीप दृढ़ता से जलता रहे
अंधकार से उजाले का युद्ध दृढ़ता से चलता रहे

सभी को दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएँ। ये त्यौहार आप सभी के जीवन में उम्मीदों और आशाओं का, सुख-समृद्धि का नया उजाला ले कर आए।
शिवानी,जयपुर


Facebook Comments