Sir William Henry Perkin’s: जानें कौन हैं हेनरी पर्किन, कैसे Purple कलर ने बदली उनकी जिंदगी, ऐसे ही 4 कमाल के लोग

नई दिल्ली: Sir William Henry Perkin का गूगल ने 180वां जन्मदिन डूडल बनाकर मनाया है. गूगल ने आज अपना डूडल ब्रिटिश कैमिस्ट सर विलियम हेनरी पर्किन को समर्पित किया है. गूगल ने Sir William Henry Perkin’s 180 Birthday डूडल बनाया है. हेनरी पर्किन ने 15 साल की उम्र में जर्मन कैमिस्ट अगस्त विलहेम वॉन हॉफमैन के साथ काम करना शुरू किया था. वे कुनैन की गोलियों पर रिसर्च कर रहे थे और इसके जरिये मलेरिया से लड़ने की योजना थी. एक दिन इसी कोशिश के तहत उन्होंने एनीलाइन की खोज की और पाया कि इसे अगर एल्कोहल में मिलाया जाए तो पर्पल कलर बन जाता है.  बस, इस तरह उन्होंने अनजाने में ही डाई की दुनिया में क्रांति ला दी और कपड़ों को रंगने के लिए एक सस्ता और बड़े स्तर पर उपयोग में लाया जाने वाला तरीका खोज लिया. पर्पल कलर ने उनकी जिंदगी बदल दी और राजशाही में इस रंग के इस्तेमाल की वजह से उनकी कारोबारी जिंदगी भी बदल गई.

यह तो रही असल जिंदगी की बात लेकिन खेल-खेल में या अनजाने में ही कुछ नया ईजाद करना हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा रहा है. सिनेमा में इस तरह की कहानियों का खूब इस्तेमाल होता आया है. बॉलीवुड में तो ‘3 ईडियट्स’ के फुनसुक वांगड़ू सबसे फेमस साइंटिस्ट रहे हैं. वे खेल-खेल में ऐसे प्रयोग करते हैं जो न सिर्फ मजे दिलाते हैं बल्कि हैरान भी करते हैं.

आइए जानते हैं बॉलीवुड के पांच ऐसे ही साइंटिस्ट्स के बारे मेंः

3 ईडियट्स
आमिर खान ने फिल्म में ‘फुनसुक वांगड़ू’ का किरदार निभाया है, जो जीवन से जुड़े नए-नए प्रयोग करता है, और जमीन से जुड़ा रहता है. यह कैरेक्टर काफी हिट हुआ था. फिल्म को राजकुमार हिरानी ने डायरेक्ट किया था.

रा.वन
‘रा.वन’ में शाहरुख खान गेम बनाते हैं, और वो अनजाने में ऐसा गेम बना देते हैं जिसके सारे कैरेक्टर्स जिंदा हो जाते हैं. फिल्म बच्चों को पसंद आई थी, और टेक्नोलॉजी को लेकर जबरदस्त थी.

रोबो
रजनीकांत की इस हिट फिल्म में वे एक वैज्ञानिक बने हैं, और वे ऐसा रोबो बनाते हैं जो किसी मायने में इंसानों से कम नहीं है. फिल्म जबरदस्त थी, और अब इसका सीक्वल भी आने वाला है. फिल्म को शंकर ने डायरेक्ट किया था.

मि. इंडिया
अनिल कपूर के पिता ऐसी घड़ा बनाते हैं जिसे पहनकर इंसान गायब हो सकता है. फिल्म में इस काल्पनिक प्रयोग ने जमकर धमाल मचाया था. फिल्म में अनिल कपूर के साथ श्रीदेवी भी थीं. डायरेक्टर शेखर कपूर थे.