रोमान्स से भरपूर साउथ इंडिया के ये हिल स्टेशन

0 commentsViews:

Hill  Station P-6

हरसिल से सात किलोमीटर की दूरी
पर है साताल। यहां सात तालों का
नजारा देखने लायक है। यह झील 9
हजार फीट की ऊंचाई पर है। यह
झील इतनी बड़ी है कि आप पहाडि़यां,
आसमान और बादलों की परछाइयां
एक साथ देख सकते हैं और वह भी
कंपकंपाती हुई। नेचर को झील के
अंदर देखने का यह सीन अपने आप
में अनोखा है।

क्या आप अपने पार्टनर को समय
नहीं दे पाते हैं। या आपके पार्टनर के
पास वक्त की कमी है। तो क्यों न
इस बार की गर्मियों में आप अपने
रिश्ते में दें ठंडी हसीन वादियों की
ठंडक। जहां आपके और आपके पार्टनर
के बीच कोई दूरी न रहे। तो दोस्तों
इस बार सैर करें दक्षिण भारत के 5
बेहद खूबसूरत रोमांटिक हिल स्टेशन
की। जहां का शांत वातावरण, हरी
भरी घाटियां, ऊंचे ऊंचे हरे भरे वृक्ष
और ठंडी ठंडी हवाएं आपके रिश्तों में
ले आएंगी फिर से नई ताजगी। यहां
आकर आप कुदरत की गोद में खुदको
महसूस करेंगे। ऐसा अनुभव होगा जैसे
ये रंगीन वादियां आपको अपनी आगोश
में भरी हुई हों। तो देर किस बात की
निकल पडि़ए अपने पार्टनर के साथ
एक यादगार सैर पर।
दक्षिण भारत के बेहद रोमांटिक हैं
ये हिल स्टेशन:-
मुन्नार:- दूर दूर तक फैले चाय
के हरे भरे खुशबूदार बागान, थोड़ी
थोड़ी दूर पर कल कल बहते झरने
और ठंडी ठंडी हवाएं मुन्नार को पर्यटकों
के आकर्षण का केंद्र बनाते हैं। मुन्नार
इडुक्की् जिले में स्थित बेहद खूबसूरत
रोमान्स से भरपूर साउथ इंडिया के ये हिल स्टेशन
हिल स्टेशन है। हरीभरी मखमली
घाटियां इसके सौंदर्य का प्रतिक हैं।
यह रोमांटिक स्थल किसी भी जोड़े को
करीब आने को मजबूर करदे।
ऊटी:- तमिलनाडु राज्य का बेहद
खूबसूरत शहर है ऊटी जो अपने
मनमोहक .श्यों से पर्यटकों को अपनी
और लुभाने में हमेशा ही कामयाब रहा
है। यह बेहद रोमांटिक स्थल है जहां
पार्टनर मुस्कुराते गुनगुनाते नजर आते
हैं। ऊटी फिल्मी कारखाने के लिए भी
विश्व प्रसिध्द है। यह स्थल सुन्दर
सुन्दर पहाडि़यों से घिरा हुआ है तभी
तो इसे पहाड़ों की रानी के नाम से भी
सम्बोधित किया जाता है।
कूर्ग:- कुदरत के बेहतरीन नजारों
को देखना है तो कूर्ग अवश्य आएं।
यहां आप प्रा.तिक सुंदरता का जीता
जागता उदाहरण देखेंगे। यह हिल
स्टेशन दक्षिण भारत के खूबसूरत हिल
स्टेशनों में से एक है। कूर्ग को कोडागु
भी कहते हैं इसे दक्षिण भारत का
स्कॉटलैंड कहा जाता है।
अराकू घाटी:- आंध्रप्रदेश के दक्षिण
भारत राज्य में विशाखापट्टनम जिले में
अराकू घाटी स्थित है। यह बेहद
खूबसूरत और रोमांटिक घाटी है। जहां
हर साल हजारों की तादाद में जोड़े
आते हैं। इस घाटी को टॉलीवुड फिल्मों
में भी दिखाया गया है। यहां आप
संग्रहालय, टाइडा, बोर्रा गुफाएं, सांगडा
झरने और पदमपुरम बॉटनिकल गार्डन
और प्रा.तिक के दिलकश नजारों को
जी भर के देख सकते हैं।
कोडैकनाल:- तमिलनाडु का बेहद
खूबसूरत हिल स्टेशन है कोडैकनाल।
जो अपनी सुंदरता के कारण पर्यटकों
के बीच में खासा लोकप्रिय रहा है।
इस बार आप अपने पार्टनर के साथ
इस शांत और मनोरम घाटी में आ
सकते हैं। जहां कोसो दूर तक हरियाली
ही हरियाली नजर आएगी जो आपके
मन को शांति देगी।
हरसिल की हंसी वादियां
कुदरत की खूबसूरती का बेहतरीन
नजारा देखने को मिलता है हरसिल
में। यह उत्तराखंड का एक हिल स्टेशन
है। यहां आपको दूर-दूर तक ग्रीनरी
दिखेगी। वहीं, ट्रेकिंग का मजा भी यहां
खूब लिया जा सकता है। करते हैं
हरसिल की एक सैरः
नदी, झरने और जंगलों को करीब
से देखना चाहते हैं, तो चले आइए
हरसिल। यह खूबसूरत हिल स्टेशन
उत्तराखंड में उत्तरकाशी-गंगोत्री सड़क
पर है। सी लेवल से 7860 फुट की
ऊंचाई पर स्थित यह जगह घने जंगलों
से घिरी हुई है।
यह उत्तरकाशी से 73 किलोमीटर
आगे और गंगोत्री से 25 किलोमीटर
पीछे स्थित है। अगर आप गंगोत्री,
गोमुख और तपोवन जा रहे हैं, तो
आपको हरसिल से गुजरना होगा। यहां
आपको घाटी भी मिलेगी, तो ऊंचे-ऊंचे
पहाड़ भी।बता दें कि कि भागीरथी और
केदार गंगा नदियों के संगम पर एक
छोटा सा तीर्थ स्थान भी है। और यहीं
से गंगोत्री-गोमुख-तपोवन और
गंगोत्री-केदारताल नाम से दो लोकप्रिय
ट्रेकिंग पॉइंट्स भी शुरू होते हैं।
ग्रीनरी ही ग्रीनरी
हरसिल में आप जिधर निगाह
डालिए, आपको दूर-दूर तक हरियाली
नजर आएगी। कहीं मखमली घास, तो
कहीं ऊंचे-ऊंचे देवदार व भोजपत्र के
पेड़। यही नहीं, आपको पेड़ों के जमघट
भी देखने को मिलेंगे। अगर आप थके
हुए हैं, तो इनके नीचे कुछ पल लेटकर
ही रिलैक्स हो सकते हैं। गोमुख से
निकलने वाली भागीरथी नदी यहां
एकदम कूल नजर आती है और आप
इसके तट पर घूमने का मजा भी खूब
ले सकते हैं। पहाड़ों के टेढे-मेढ़े रास्तों
से गुजरते हुए यह नदी बेहद खूबसूरत
दिखती है।
बर्फ से ढके पहाड़
हरसिल में नदी, झरने और जंगल
से थोड़ा ऊपर निगाह डालते ही आपकी
आंखें खुली की खुली रह सकती हैं।
बर्फ से ढके पहाड़ इतने खूबसूरत
नजर आते हैं, मानो पेंटिंग बनाकर
रख दी गई हों। यही नहीं, ढलानों पर
फैले ग्लेशियरों की छटा भी कुछ कम
दिलकश नहीं होती।
हरसिल से सात किलोमीटर की
दूरी पर है साताल। यहां सात तालों
का नजारा देखने लायक है। यह
झील 9 हजार फीट की ऊंचाई पर
है। यह झील इतनी बड़ी है कि आप
पहाडि़यां, आसमान और बादलों की
परछाइयां एक साथ देख सकते हैं
और वह भी कंपकंपाती हुई। नेचर को
झील के अंदर देखने का यह सीन
अपने आप में अनोखा है।
मंदाकिनी फॉल
इस पूरी घाटी में झरनों की भरमार
है। इनमें सबसे पॉप्युलर है मंदाकिनी
फॉल। फिल्म राम तेरी गंगा मैली हो
गई में एक झरने में ऐक्ट्रेस मंदाकिनी
को नहाते हुए दिखाया गया था, तब
से इस झरने का नाम मंदाकिनी फॉल
पड़ गया। इसकी धार इतनी तेज है
कि अगर आप एकटक देखें, तो लगेगा
जैसे आसमान से आ रही हो। इसके
अलावा भी यहां पर कई छोटे-बड़े
झरने हैं। इन झरनों की आवाज किसी
म्यूजिक से कम नहीं होती।
ट्रेकिंग विद कैपिंग
अगर आप ट्रेकिंग के शौकीन हैं,
तो सात किलोमीटर की ट्रेकिंग के
बाद आप साताल पहुंच जाते हैं। यहां
आप कैपिंग का भी मजा ले सकते हैं।
कैपिंग के लिए आपको यहां पर बेसिक
सुविधाएं भी उपलब्ध हो जाएंगी।

 


Facebook Comments