अमित शाह ने घूसकांड की आड़ में नीतीश पर बोला हमला

Amit shah

पटना। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह
ने रिश्वतकांड के स्टिंग वीडियो को
लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार
पर हमला बोलते हुए उन्हें अवधेश
कुशवाहा के अलावा इसमें कथित रूप
से शामिल पांच दूसरे मंत्रियों का नाम
सार्वजनिक करने की चुनौती दी और
कहा कि राज्य में अब भ्रष्टाचार एवं
जंगलराज आम हो गए हैं।
उन्होंने साथ ही एक तरफ लालू
प्रसाद और दूसरी तरफ कांग्रेस को
साथ रखकर बिहार में सुशासन देने के
नीतीश के इरादे पर भी सवाल किए
और कहा कि अवसरवादियों के इस
महागठबंधन के नेता अपने भ्रष्टाचार
को लेकर शर्मिंदगी तक महसूस नहीं
करते।
शाह ने कहा, नीतीश को रिश्वत
कांड में शामिल पांच मंत्रियों का नाम
सार्वजनिक करना चाहिए जिससे जुड़ा
एक स्टिंग वीडियो सामने आया है।
स्टिंग वीडियो में राज्य के मंत्री और
जदयू नेता अवधेश कुशवाहा को पैसे
लेते दिखाया गया है जिन्हें बाद में
मंत्री पद छोड़ना पड़ा।
उन्होंने राज्य के नोखा, अरवल
और नवीनगर में चुनाव रैलियों को
संबोधित करते हुए कहा, जब तक
नीतीश कुमार भाजपा के साथ थे, किसी
ने भी भ्रष्टाचार करने का दुस्साहस

नहीं किया। लेकिन जब उन्होंने लालू
प्रसाद और कांग्रेस से हाथ मिला लिया
तो आप भ्रष्टाचार एवं जंगलराज के
सिवा उनसे क्या उम्मीद कर सकते
हैं। शाह ने साथ ही यहां बुद्धिजीवियों
के एक सम्मेलन में कहा कि राज्य के
लोगों के पास दो विकल्प हैं। या तो
लालू के जंगलराज की वापसी के
लिए वोट करें जिसके मुखौटे नीतीश
हैं अथवा बिहार के गौरव को वापस
लाने और इस प्रदेश के सर्वागीण विकास
के लिए नरेंद्र मोदी नीत राजग के पक्ष
में वोट करें। तीसरा कोई विकल्प नहीं
है।शाह ने राज्य के लोगों को आगाह
करते हुए कहा कि लालू-नीतीश की
जोड़ी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बिहार
और उसके लोगों के कल्याण के लिए
काम नहीं करने देगी और लोगों को
भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार चुननी
चाहिए जो केंद्र के साथ मिलकर काम
करे। भाजपा अध्यक्ष ने बिहार के पिछले
गौरव की याद दिलाते हुए कहा कि
इस प्रदेश ने देश पर करीब 600 सालों
तक राज किया और ज्ञान और शिक्षा
की धरती रही तथा विश्व को पहला
गणतंत्र देने वाला यह बिहार आज
कहां पहुंच गया। शाह ने बुद्धिजीवी
वर्ग से अपील की कि उनकी पार्टी
उनसे अपने पक्ष में न केवल वोट देने
की उम्मीद रखती है बल्कि इस प्रदेश
में एक ऐसा माहौल बनाने की आशा
करती है जिससे भाजपा सत्ता में आ
सके।
उन्होंने नीतीश के सिद्धांतों पर
प्रश्न उठाते हुए अपने राजनीतिक
जीवन के लंबे अरसे तक वे लालू
प्रसाद के जंगलराज के खिलाफ लड़ते
रहे और आज वे कह रहे हैं उन्होंने
लालू के कार्यकाल को कभी भी
जंगलराज नहीं कहा लेकिन प्रदेश की
जनता जानती है कि नीतीश ऐसा
कहते थे। नीतीश के उस कथन कि
बिहार पर यहां के निवासी न कि बाहरी
राज करेंगे, शाह ने कहा कि उनकी
पार्टी के सत्ता में आने पर निश्चित रूप
से इस प्रदेश का मुख्यमंत्री इसी राज्य
का निवासी होगा। बिहार का रहने
वाला ही मुख्यमंत्री होगा। अब उनके
(नीतीश) लिए मुख्यमंत्री बन पाना संभव
नहीं है।