मोदी विजन अच्छा पर इसे अमल में लाना भी जरूरीः शीला दीक्षित

0 commentsViews:

sheila-1

 नई दिल्ली । दिल्ली की मुख्यमंत्री और केरल की राज्यपाल रह चुकी
कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री शीला दीक्षित का कहना है कि कुछ महीनों पहले हुई
एक मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें
विश्वास और विजन से लबरेज शख्स लगे थे, उनकी
शैली नई है, लेकिन अभी यह देखना बाकी है कि वह
चीजों को कैसे व्यावहारिक धरातल पर लागू करते
हैं। उन्होंने केरल के राज्यपाल के पद से इस्तीफ
देने से पहले मोदी से मुलाकात की थी। शीला
दीक्षित ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू में इस बात
का जिक्र करते हुए कहा कि मोदी को अपने ऊपर
काफी विश्वास है और उनके पास विजन भी है।
हालांकि, यहां बड़ा सवाल यह है कि वह अपने विजन को कैसे अमलीजामा
पहनाएंगे। उन्होंने ‘अच्छे दिन आएंगे‘ से शुरुआत की, लेकिन अब इस बारे में
चर्चा नहीं करते हैं। वह केवल नए और आकर्षक मुहावरे गढ़ते हैं। क्या कांग्रेस
को मोदी से सीख लेने की जरूरत है, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि
हमें उनकी स्टाइल और कार्यशैली अपनानी चाहिए कि नहीं, अभी इस पर विचार
करने का समय नहीं आया है। इसके लिए अभी थोड़ा इंतजार और आकलन
करना होगा। अभी उनके जैसा कुछ करने की कोशिश समय से पहले उठाया
जाने वाला कदम साबित होगा। वह नई राजनीतिक भाषा शैली में बहुत सी
चीजों का वादा कर रहे हैं, लेकिन अभी देखना होगा कि उनके वादों का
आखिरकार क्या होता है। अपने इस्तीफे से जुड़े विवाद पर शीला ने कहा कि
इस्तीफा देने से पहले उन्होंने एनडीए सरकार को बता दिया था कि पद की
गरिमा का ध्यान रखे।


Facebook Comments