स्वच्छ भारत अभियान का जोश पड़ा ठंडा

0 commentsViews:

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
की अगुआई में चल रहे स्वच्छ भारत
मुहिम के प्रति प्रशासन समेत आम
लोगों का भी मोहभंग होता जा रहा है।
2 अक्टूबर को जो जोश व उत्साह
प्रशासन व एनजीओ ने दिखाया था
वह जोश अब ठंडा पड़ता दिख रहा
है। शहरों की सफाई व्यवस्था अब फिर
से पुराने ढर्रे पर आ गई है। अब
सफाई का काम सिर्फ सफाई सेवकों
के ही जिम्मे है, लेकिन सफाई कर्मी भी
छुट्टियां मना रहे हैं। इस लिए शहर
में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है।
मोगा के लाल सिंह रोड तथा राजिंदरा
एस्टेट के मोड़ पर दो दिन से लगा
कूड़े का ढेर अभियान के प्रति उदासीनता
दर्शा रहा है।
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र
मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के
तहत दो अक्टूबर को मोगा शहर में
कई संस्थाओं समेत निगम व जिला
प्रशासन द्वारा विशेष सफाई अभियान
चलाने के बाद मुहिम को सफल बनाने
की शपथ ली गई थी। मुहिम के तहत
दो अक्टूबर को सिविल अस्पताल, मेन
बाजार व निगम कार्यालय समेत अन्य
कई स्थानों पर सफाई की गई थी।
वहीं जिला स्तर पर हुए समागम में
अधिकारियों व कर्मचारियों समेत
एनजीओ ने अपने शहर समेत वाडरें
के साथ-साथ घर से ही सफाई करने
का प्रण लिया था। लेकिन उसके बाद
सफाई अभियान ठंडा पड़ गया है।
जिसके चलते लाल सिंह रोड पर जहां
कूड़े के ढ़ेर स्वच्छ भारत अभियान को
मुंह चिढ़ा रहे हैं, वहीं राजिंदरा एस्टेट
के मोड़ पर सड़क के बीच लगा कूड़े
का ढ़ेर सफाई व्यवस्था की पोल खोल
रहा है।
इस संबंध में निगम के एसटीपी
रमेश गर्ग का कहना है कि वह इस
मामले की जांच करेंगे कि सफाई
व्यवस्था क्यों बिगड़ी है। उन्होंने कहा
कि शहर की सफाई करना सफाई
कर्मियों की जिम्मेदारी है। यदि कर्मी
सफाई के प्रति लापरवाह हैं तो सख्ती
बरती जाएगी।


Facebook Comments